30 दरिंदों के गैंगरेप की पीड़ित ने चुप्पी तोड़ी, दोषियों को पकड़ने के लिए बड़ा ऑपरेशन

नई दिल्ली (2 जून) :  ब्राज़ील के रियो डि जेनेरियो में 16 साल की एक लड़की के साथ 30 लोगों के गैंगरेप और फिर इस दरिंदगी का वीडियो सोशल मीडिया डालने की घटना ने पूरी दुनिया को हिला दिया था। कुछ दिन पहले हुई इस वारदात की पीड़ित ने एक बयान में अपने साथ हुई दरिंदगी के बारे में बताया है।

'अल जज़ीरा' की रिपोर्ट के मुताबिक पीड़ित ने एक टीवी इंटरव्यू में कहा, "मुझे ड्रग्स दी गई थी, जिसकी वजह से मुझे होश नहीं था। वहां काफी लोग थे जिनके पास बंदूकें थी। युवा लड़के हंस रहे थे और आपस में बातें कर रहे थे।"  

बता दें कि इस घटना के बाद सोशल मीडिया पर कुछ कॉमेंट्स में लड़की को ही घटना के लिए ज़िम्मेदार ठहराने की कोशिश की गई थी।

पीड़ित ने कहा, "जो कुछ भी हुआ उसने मुझे ही आहत नहीं किया बल्कि मेरी आत्मा को भी चोट पहुंचाई। क्योंकि जिसके लिए मेरा कोई कसूर नहीं था उसके लिए मुझे दोष देने की कोशिश की गई। उन्होंने मेरे पास जो कीमती सामान था ना सिर्फ उसे लूटा बल्कि भौतिक तौर पर भी दरिंदगी से पेश आए।"  

जिस तरह पीड़ित की शिकायत पर पुलिस ने पहले प्रतिक्रिया दिखाई, उसे लेकर ब्राजील के लोगों में भारी रोष है। उन्होंने इस घटना पर सड़कों पर निकल कर अपना आक्रोश जताया। अब इस मामले की जांच एक महिला पुलिस अधिकारी को सौंपी गई है।

नाबालिगों के खिलाफ अपराधों को देखने वाली पुलिस चीफ क्रिस्टीना बेंटो ने कहा है, "पीड़ित को समुचित देखभाल की ज़रूरत है। दुष्कर्म का अपराध हुआ है। अब मैं ये पता लगाने की कोशिश कर रही हूं कि इस अपराध में कौन कौन शामिल था। मैं सभी सबूत एकत्र कर प्रोसीक्यूटर्स को सौंपना चाहती हूं। जिससे कि वो मज़बूत केस बनाएं और जो भी इस अपराध में शामिल थे, उन्हें उनके क़ानूनी अंजाम तक पहुंचाया जा सके।"

इस बीच पुलिस ने कुछ संदिग्धों के फोटो जारी किए हैं। रियो डि जेनेरियो के स्लम इलाके में आरोपियों की धड़पकड़ के लिए पुलिस ने बड़ा अभियान छेड़ा है। इसमें हथियारबंद वाहनों, हेलिकॉप्टर्स और ट्रेंड कुत्तों की मदद ली जा रही है।