भारतीय सेना का दुश्मनों को सख्त संदेश, किया ब्राह्मोस मिसाइल का परीक्षण

नई दिल्ली (3 मई): सरहद पर तनाव के बीच भारतीय सेना ने कल यानी मंगलवार को जमीन से जमीन पर मार करने वाली ब्राह्मोस मिसाइल के नए आधुनिक वर्जन ब्राह्मोस ब्लॉक- तीन का सफल परीक्षण किया। ये परीक्षण अंडमान-निकोबार में किया गया। क्रूज मिसाइल के इस परीक्षण को चीन के लिए चुनौती माना जा रहा है।


भारतीय सेना ने ये ये परीक्षण मोबाइल ऑटोनॉमस लांचर से किया। बताया जा रहा है कि क्रूज मिसाइल ब्राह्मोस किसी भी प्रकार के खतरनाक हथियारों पर लगाए गए निशाने के अनुसार घातक वार करती है। इसकी एक खासियत ये भी है कि ये किसी भी गतिशील लक्ष्य को आसानी से निशाना बना सकती है। सतह पर मौजूद टॉरगेट को भी नष्ट करने में ये अचूक है। ये किसी भी शक्तिशाली रडार को धोखा देने में भी सक्षम है। ब्राह्मोस मिसाइल अमेरिका की टॉम-हॉक मिसाइल से दो गुना तेज बताई जाती है।


कम ऊंचाई से भी घातक हमला करना इसकी एक बड़ी खासियत है। ये दुनिया की एक ऐसी मिसाइल है जो झुकी हुई और वर्टिकल दोनों ही अवस्था में दागी जा सकती है। ब्राह्मोस के इस नए वर्जन का ये चौथा परीक्षण था। ब्राह्मोस मिसाइल सुखोई-30 फाइटर एयरक्राफ्ट और शिप से भी दागी जा सकती है।