आतंकियों की नाक में दम कर देने वाले इस बच्चे को तालिबान ने मार डाला

नई दिल्ली (3 फरवरी): तालिबान ने अफगान सरकार की तरफ से सम्मान प्राप्त एक बहादुर बच्चे की हत्या कर दी है। तालिबान ने खुद इस हत्या की ज़िम्मेदारी ली है। 

'ईवनिंग स्टैंडर्ड' की रिपोर्ट के मुताबिक, 10 वर्षीय वसील अहमद के सिर में दो गोलियां मारकर आतंकी संगठन के हमलावर ने हत्या कर दी है। वसील ने पिछले साल तालिबान के खिलाफ सुरक्षा के लिए अगुवाई में मदद की थी। इसके बाद वसील को हीरो जैसा सम्मान दिया गया था। पुलिस की वर्दी में उसने टेलीविजन कैमरों के सामने परेड की थी। ये बच्चा तालिबान के ख़िलाफ लड़ रहे अपने चाचा और 10 अन्य लोगों के घायल होने के बाद इस संघर्ष में शामिल हो गया था।  इस संघर्ष से हटने के कुछ महीने बाद स्कूल में दाखिल होते ही टिरिन कोट शहर में उसकी हत्या कर दी गई है।

तालिबान ने सोमवार को हुए हमले की जिम्मेदारी ली है। तालिबान के मुताबिक उन्होंने 'एक कठपुतली सैनिक' को मार डाला है। ऐसा बताया जा रहा है कि वसील अपने घर से सब्जियां खरीदने के लिए निकला था। तभी मोटरसाइकिल पर सवार एक बंदूकधारी ने उसके सिर में दो बार गोली मारी और घटनास्थल से फरार हो गया।