HC की महाराष्ट्र सरकार को फटकार, IPL जरूरी या जनता?

विनोद जगदाले, मुंबई (6 अप्रैल): सूखे की मार झेल रहे महाराष्ट्र की स्थिति पर बॉम्बे हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा कि स्टेडियम का रख-रखाव करने के लिए जिस तरह पानी बर्बाद किया जा रहा है वह सही नहीं है।

कोर्ट ने कहा कि मैच से ज्यादा पानी जरूरी है। आप ऐसे पानी कैसे बर्बाद कर सकते हैं। आपको हालात पता हैं? क्या सरकार राज्य के हालात देख रही है? जस्टिस वीएम कनाडे ने कहा, 'मराठवाड़ा में लोगों को चार से पांच दिन में एक बार पानी मिलता है। अगर सरकार के पास पानी बचाने का कोई उपाय नहीं है तो मैच को राज्य से बाहर ट्रांसफर कर देना चाहिए।'

महाराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन की ओर से पेश हुए वकील ने कहा कि पिच पहले से तैयार की जा चुकी हैं और अब उन्हें मेंटेन रखने के लिए पानी की जरूरत है। उन्होंने कहा कि मैच का आयोजन MCA नहीं कराता है। वही, याचिकाकर्ता के वकील ने कहा कि एक सप्ताह में वाटर लेवल 2 फीसदी तक नीचे गया है, जोकि गहरी चिंता का विषय है। लातूर और मराठवाड़ा जैसी जगहों पर तो पानी की किल्लत सबसे अधिक है।