आर्थिक सर्वे में बाॅलीवुड के प्रसिद्ध डायलॉग और गाने का भी हुआ जिक्र

नई दिल्ली ( 30 जनवरी ): संसद में सोमवार को आर्थिक सर्वे पेश किया गया। सर्वे में कवि से लेकर उपन्यासकारों और बड़े अर्थशास्त्रियों से लेकर बॉलीवुड ऐक्टर तक के नाम का जिक्र है। देश की अर्थव्यवस्था की तस्वीर पेश करने के लिए इनके कोट्स का इस्तेमाल किया गया है। आर्थिक सर्वे में न्यायपालिका के प्रोसेस में होने वाली देरी के लिए सनी देओल के डायलॉग 'तारीख पर तारीख' का इस्तेमाल किया गया है। 

इसी तरह मनोज कुमार की फिल्म उपकार के सुपर हिट गाने 'मेरे देश की धरती सोना उगले' का जिक्र क्लाइमेट चेंज वाले चैप्टर में आता है। प्रधानमंत्री के किसानों की आय दोगुनी करने के लक्ष्य, किसानों की समस्या और क्लाइमेट चेंज के चलते उनके सामने आ रही समस्याओं की बात करते समय इस गाने का ज़िक्र आता है। 

निवेश में कमी पर चिंता जताते हुए आर्थिक सर्वे में हाइमन मिंस्की का जिक्र किया है, जिन्होंने कहा था, 'निवेश धुन बजाता है और लाभ उसी मुताबिक नाचता है। ईज ऑफ डूइंग बिजनस रैंकिंग की राह में न्यायालयों में लंबित मामले भी बाधक हैं और इसको जाहिर करने के लिए सेक्सपियर के साथ ही बॉलिवुड ऐक्टर सनी देओल का डायलॉग इस्तेमाल किया गया है। चैप्टर की शुरुआत हेमलेट में सेक्सपियर के कोट से हुई है, 'समय के चाबुक और गुस्से, आक्रांताओं की करतूत, न्याय में देरी को कौन सहन करेगा।' 

भारतीयों में बेटे की चाहत की जिक्र करते हुए आजादी के दौर के मशहूर तमिल कवि सुब्रमण्य भारती की कविता का इस्तेमाल किया गया है, जिसमें वह कहते हैं, 'उसका सिर ऊंचा है, सबकी आंखों में देख रही है, सहज पवित्रता की वजह से वह किसी से भयभीत नहीं, दृढ़ विश्वास के साहस से पैदा होने वाली आश्वस्तता की वजह से आधुनिक महिला किसी से हीनता महसूस नहीं करती।'