लंदन के मेयर सादिक खान पब्लिक ट्रांसपोर्ट में ऐसे विज्ञापनों पर लगाएंगे 'बैन'

नई दिल्ली (14 जून): लंदन में पब्लिक ट्रांसपोर्ट से ऐसे विज्ञापनों पर प्रतिबंध लगाया जाएगा, जो लोगों को अपने शरीर को लेकर शर्मिंदा महसूस करते हैं। या जिन्हें देखकर एक खास तरह से दिखने के दबाव में रहते हैं।

ब्रिटिश अखबार 'इंडिपेंडेंट' की रिपोर्ट के मुताबिक, लंदन के नए मेयर सादिक खान ने इस कदम की घोषणा की है। जिसमें ऐसे विज्ञापनों पर रोक लगाई जाएगी। जिसमें एक विवादित प्रोटीन वर्ल्ड कैम्पेन भी शामिल है। जिसमें लोगों से कहा जाता है- "आर यू बीच बॉडी रेडी?" ये कैम्पेन प्रोटीन शेक्स के प्रचार के लिए की गई।

इस कैम्पेन के लिए विज्ञापन पूरे लंदन के अंडरग्राउंट स्टेशनों पर दिखाई देते हैं। जिसमें एक मॉडल को बिकिनी में दिखाया गया है। इस विज्ञापन की काफी आलोचना की गई। जिसपर आरोप लगा कि यह शरीर को लेकर अवास्तविक अपेक्षाओं को बढ़ावा देता है। इसके अलावा महिलाओं को नीचा दिखाता है।

सादिक खान ने कहा, "दो टीनएज लड़कियों के पिता के तौर पर मैं इस तरह के विज्ञापनों को लेकर बेहद चिंतित हूं। जो लोगों को नीचा दिखा सकते हैं, खासतौर पर महिलाओं को। ये महिलाओं को अपने शरीर को लेकर शर्मिंदा महसूस करा सकता है। यह बिल्कुल उचित समय है, जब इसपर रोक लगाई जाए।"

"किसी को भी दबाव महसूस नहीं करना चाहिए। जब भी वे ट्यूब या बस में ट्रैवल करते हैं। उन्हें अवास्तविक अपेक्षाओं से नहीं घेरना चाहिए। जो उनके शरीर से जुड़ी हों। मैं एडवरटाइजिंग इंडस्ट्री को एक साफ संदेश देना चाहता हूं।"

इन विज्ञापनों पर बैन लगाने के अलावा सादिक खान ने ट्रांसपोर्ट फॉर लंदन (टीएफएल) से भी इस बारे में कहा है। शहर का पब्लिक ट्रांसपोर्ट देखने वाले टीएफएल से कहा गया है कि एक एडवरटाइजिंग स्टीयरिंग ग्रुप बनाए। जो इसकी नई पॉलिसी की समीक्षा करे। 

रिपोर्ट के मुताबिक, टीएफएल का एडवरटाइजिंग एस्टेट दुनिया में सबसे ज्यादा कीमती माना जाता है। इसके अलावा अगले साढ़े 8 सालों में 1.5 अरब डॉलर का राजस्व पैदा करने की उम्मीद है। टीएफएल सर्विसेस के अंतर्गत हर साल 12,000 विज्ञापन लगाए जाते हैं। जिनमें ट्यूब लंदन अंडरग्राउंड, डीएलआर, ट्रैम्स और बस शेल्टर्स शामिल हैं। जो लाखों लोगों तक पहुंचते हैं। जो रोजाना ट्रैवल करते हैं।