माता-पिता को 8 फीट गहरे गड्ढे में किया था दफन, अब हत्यारे बेटे ने किए ये खुलासे

नई दिल्ली ( 5 फरवरी ): रायपुर के एक घर में पिछले सात साल से मां-बाप की हत्या के डबल मर्डर का राज़ दफ्न था और ऊपर एक परिवार रह रहा था। किसी को कानों खबर नहीं थी कि जिस पॉर्श इलाके में बने इस घर में वो रह रहे हैं उनकी नींव दो लाशों पर खड़ी है और इनका हत्यारा कोई नहीं बल्कि खुद बेटा है। रायपुर से करीब छह सौ किलोमीटर दूर जब गर्लफ्रेंड की हत्या के आरोप में उदयन नाम के सनकी किलर को गिरफ्तार किया गया तो इस घर को कब्र बनाने का चौंकाने वाला खुलासा हुआ। पुलिस की पूछ-ताछ में उदयन ने बताया कि गर्लफ्रेंड से पहले उसने 2010 में माता-पिता की हत्या की थी और लाशों को घर में दफ्ना दिया था।

कातिल के कबूलनामे के बाद भोपाल पुलिस इसे रायपुर लेकर आई और बयान के मुताबिक इस घर की खुदाई शूरू की गई। रायपुर में भोपाल और पश्चिम बंगाल पुलिस की मौजूदगी में उदयन दास के घर की खुदाई चल रही है और इस खुदाई में पुलिस को हड्डियां मिली हैं।

खुदाई में जो हड्डियां मिली हैं पुलिस उसकी डीएनए और फॉरेंसिक जांच कराएगी। इसके बाद ही साफ हो सकेगा कि ये हड्डियां आरोपी उदयन के माता-पिता की हैं या फिर किसी और की हैं।

घर के बागीचे में मिली इन हड्डियों के बाद भोपाल गर्लफ्रेंड हत्याकांड में नया मोड़ आ गया है और पुलिस अब इस एंगल से भी जांच और पूछ-ताछ कर रही है कि उदयन ने माता-पिता के अलावा किसी और की तो हत्या नहीं की है।

उदयन ने माता-पिता की हत्या करने के बाद उन्हें घर के बागीचे में गाड़ दिया था और फिर घर बेचकर चला गया था। रायपुर में उदयन के बेचे गए मकान के आसपास रहने वालों ने बताया कि उदयन रायपुर में अपनी मां इंद्राणी और पिता वीके दास के साथ रहता था। उदयन और उसकी फैमिली पड़ोसियों से ज्यादा घुलती-मिलती नहीं थी। इसलिए लोग ज्यादा कुछ नहीं बता पा रहे हैं। हालांकि, ये जरूर बता रहे हैं कि उन्हें इंद्राणी और उनके पति की मौत की वजह बीमारी बताई गई थी।

बताया जा रहा है कि उदयन ने मां-बाप की हत्या सिर्फ इसलिए की, क्योंकि वो उसे नशा और फिजूल खर्ची करने से रोकते थे। मां बाप की यही बात उसे पसंद नहीं थी। इसीलिए उसने निहायत ही बेरहमी से माता-पिता की हत्या कर दी और घर बेचकर रफू चक्कर हो गया। लेकिन कहते हैं कि गुनाह ज़्यादा दिन तक छुपता नहीं है और इस हत्या मामले में भी ऐसा ही हुआ।

उधर बंगाल पुलिस ने यहां मीडिया के सामने दावा किया है कि उदयन साइको नहीं है। अब तक उसके साइको किलर होने की बात कही जा रही थी, लेकिन बंगाल पुलिस के एक अफसर इससे इनकार कर रहे हैं।

उदयन के पिता वीके दास भेल में फोरमैन थे। उदयन की मां विध्यांचल भवन में एनालिस्ट की पोस्ट से रिटायर हुई थीं। मां की पेंशन लगभग 30 हजार रुपए आती है। फेडरल बैंक एमपी नगर शाखा में पिता के साथ उदयन का ज्वाइंट अकाउंट है। पुलिस इसकी भी जांच कर रही है। रिश्तेदार बताते हैं कि जब भी माता-पिता के बारे में उदयन से पूछा जाता था तो कहता था कि माता-पिता विदेश में रहते हैं।