भारत में रहना है तो वंदे मातरम कहना होगा: शिवसेना


नई दिल्ली (11 अगस्त): शिवसेना के पूर्व मेयर सुनील प्रभु ने कहा कि अगर भारत में रहना है तो वंदेमातरम कहना होगा। शिवसेना के मेयर का ये बयान बीएमसी के उस फैसले के बाद आया है जिसमें उसने गुरुवार 10 अगस्त को बीएमसी और उसके अनुदानित सभी स्कूलों में वंदे मातरम अनिवार्य करने के प्रस्ताव को पास कर दिया था। 

बीएमसी के इस फैसले का विपक्षी दल विरोध कर रहे हैं। आपको बता दें कि बीएमसी में प्रस्ताव पास होने के बाद महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फणनवीस की मुहर लगनी जरूरी है। स्कूलों में वंदेमातरम के अनिवार्य करने को लेकर विरोधी दलों का कहना है कि ये सरासर गलत है, आप किसी को जबरदस्ती कुछ करने के लिए मजबूर नहीं कर सकते। 

AIMIM विधायक वारिस पठान ने इस फैसले पर आपत्ति जताते हुए कहा है कि ये पूरी तरह से गैर संवैधानिक है। संविधान में कहीं नहीं लिखा गया है कि आपको वंदे मातरम गाना ही पड़ेगा। वारिस पठान ने ये भी कहा है कि अगर इसे जबरदस्ती थोपा गया तो इसका अंजाम भुगतना होगा।