ISIS और अलकायदा में फिर शुरु होगी खूनी गैंगवार

नई दिल्ली (16 मई): पाकिस्तान में छिपे बैठे अलकायदा के सुप्रीम कमांडर अयमान अल जवाहिरी, आईएसआईएस के बढ़ते प्रभाव से काफी चिंतित है। उसने आईएसआईएस को चुनौती देने के लिए अपने कुछ बुजुर्ग जिहादियों को सीरिया भेजा है। ईराक और  सीरिया में अमेरिकी फौजों के प्रवक्ता कर्नल स्टीव वॉरैन का कहना है कि आईएसआईएस ने अलकायदा की छवि को धूमिल कर दिया है।

अलकायदा अब फिरसे अपनी पुरानी स्थिति को हासिल करना चाहता है। इसीलिए उसने अपने बुजुर्ग जिहादियों को जिम्मेदारी दी है कि वो सरिया में अल नुसरा फ्रंट को सक्रिय करें और उसके माध्यम से जॉर्डन, लेबनान और सीरिया में अलकायदा के लिए भर्ती शुरु करें। अल जवाहिरी का मकसद भी अब आईएसआईएस की तरह मुस्लिमों के लिए अलग देश अमीरात बनाने का है। इसके लिए वो आईएसआईएस के कब्जे वाले हिस्सों में हमला करके अपनी ताकत का अहसास कराना है।

हालांकि सीरिया में सक्रिय अल नुसरा फ्रंट सीरिया में अलग से अमीरात बनाने पक्ष में नहीं है, लेकिन वो  आईएसआईएस के बढ़ते प्रभाव को रोकने के लिए अलकायदा के प्रस्ताव को मान सकता है। अमेरिकी काउंटर टेररिज्म विशेषज्ञों का मानना है कि हिंसा के बल पर अलकायदा, आईएसआईएस के लिए एक चुनौती बन कर खड़ा होना चाहता है।