अमित शाह ने किया बीजेपी के दलित एमपी के घर लंच

नई दिल्ली (13 अगस्त): बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ‘आजादी के 70 साल, याद करो कुर्बानी’ अभियान के तहत लखनऊ पहुंचे। यहां पर उन्होंने बीजेपी के दलित MP किशोर कोशल के घर लंच करके सरकार की दलित विरोधी छवि को धूमिल करने का काम किया और विरोधियों को करारा जवाब दिया।

एयरपोर्ट पर कार्यकर्ताओं से घंटे भर बैठक करने के बाद वे काकोरी के लिए रवाना हो गए। यहां उन्होंने काकोरी के शहीदों को श्रद्धांजली दी। इस मौके पर यूपी बीजेपी अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्या ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि, 'काकोरी के शहीदों को बीजेपी न कभी भूली है, न कभी भूलेगी।' मौर्या ने कहा, '9 से 14 अगस्त तक पीएम ने तय किया है कि हम जाएं और क्रांतिकारियों के कामों को जनता को बताएं। काकोरी हमारे लिए स्मारक नहीं है, ये बीजेपी के लिए राष्ट्रीय तीर्थस्थल है।'

यहां पर जनसभा को संबोधित करते हुए शाह ने कहा कि बीजेपी शहीदों की शहादत को नहीं भूली है। शाह ने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि इस पार्टी ने देश में काम नहीं किया है। बिजली, पानी और सड़क के लिए लोग परेशान हैं। सपा-बसपा यूपी का विकास नहीं कर सकती है, यूपी का विकास बीजेपी ही कर सकती है। उन्होंने कहा कि यूपी के गांव-गांव तक विकास पहुंचाना है। जो लोग काम के लिए बाहर हैं, उन्‍हें यूपी में वापस लाना है।

अमित शाह ने कहा कि वे पीएम मोदी से काकोरी में शहीदों की स्मारक को तीर्थस्थल में तब्दील करने के लिए बात करेंगे। इससे पहले स्‍मारक पर पहुंचे शाह ने शहीदों पर फूल चढ़ाया और वृक्षारोपण किया। उन्होंने शहीद राम कृष्ण खत्री के प्रपौत्र उदय खत्री से मुलाकात की और उन्हें सम्मानित किया।