बीजेपी ने कांग्रेस से ज्यादा मुश्किलों का सामना किया: पीएम मोदी

नई दिल्ली (18 अगस्त): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीजेपी के नए आफिस की नींव रखते हुए कहा कि बीजेपी को आजाद भारत में अधिक मुश्किलों का सामना करना पड़ा। आजादी के बाद किसी पार्टी ने हमसे ज्यादा बलिदान नहीं दिया। हमारे 'सैंकड़ों' कार्यकर्ता मारे गए, क्योंकि वे उस समय चलन में रही विचारधारा से जुड़े हुए नहीं थे।

पीएम मोदी ने इस बात पर अफसोस जाहिर किया कि उनकी पार्टी के हर प्रयास को 'गलत रूप में देखा जा रहा है।' उन्होंने कहा कि देश की ताकत बढ़ने के साथ ही अलगाववादी ताकतें ज्यादा सक्रिय हो गई हैं और अब यह सुनिश्चित करना अधिक जरूरी हो गया है कि समाज को मजबूत किया जाए और अधिक समरसता बढ़े। बीजेपी एकमात्र ऐसी पार्टी होगी जिसने अपने गठन के समय से ही दुश्वारियां झेली हैं। इसने हर मोड़ पर मुश्किलों का सामना किया और उसके हर प्रयास को गलत तरीके से देखा गया।

इस दौरान पार्टी अध्यक्ष अमित शाह, वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, राजनाथ सिंह, अरुण जेटली और अन्य नेताओं की मौजूदगी में मोदी ने कहा, 'ब्रिटिश शासनकाल में भी कांग्रेस ने इतनी मुश्किलों का सामना नहीं किया होगा जितनी मुश्किलों का सामना हमारे समर्पित कार्यकर्ताओं ने 50-60 साल में किया है।'

विचारधारा के प्रति पार्टी नेताओं की प्रतिबद्धता पर मोदी ने कहा कि प्रतिद्वंद्वी पार्टियों ने निश्चित रूप से सोचा होगा कि यदि एल.के. आडवाणी, अटल बिहारी वाजपेयी या मुरली मनोहर जोशी जैसे लोग उनके साथ शामिल हो जाएं तो उनके लिए अच्छा रहेगा, लेकिन इन नेताओं ने अपने आदर्शों के लिए जीने का फैसला किया।