BJP विधायक का बेटा राजस्थान विधानसभा में बना चपरासी, नियुक्ति पर उठे सवाल

जयपुर (22 दिसंबर): देश में नौकरियों की दिक्कत किस कदर है इस बात का अंदाजा महज इस बात से लगाया जा सकता है कि राजस्थान विधानसभा में एक बीजेपी के विधायक का बेटा चपरासी बना है। हालांकि उनकी नियुक्ति भी अब विवादों में आ गई है। दरअसल जयपुरके जमवारामगढ़ से बीजेपी विधायक जगदीश नारायण मीणा के बेटे रामकृष्ण का विधानसभा में चपरासी पद पर चयनित होना चर्चा और विवाद का विषय बन गया। 

हालांकि, कोई किसी भी पद पर नियुक्ति पा सकता है, लेकिन यह नियुक्ति इसलिए भी खास है क्योंकि एक तो रामकृष्ण एक विधायक का बेटा है। दूसरा, इस पद के लिए एमबीए, डबलएमए, बीटेक तक योग्यता वाले युवाओं ने भी आवेदन किया था। इनमें से 18 पदों के लिए 18008 युवाओं को साक्षात्कार के लिए बुलाया गया। इनमें 10वीं पास रामकृष्ण भी था। 

अब आरोप लग रहे हैं कि विधायक ने अपने रसूख का इस्तेमाल कर नियुक्ति दिलाई है। दूसरी ओर, विधायक का कहना है कि रामकृष्ण अपनी मेहनत से सलेक्ट हुआ है। इसका फर्क नहीं पड़ता कि नौकरी छोटी है या बड़ी। विधानसभा में चपरासी पद के लिए 5वीं पास योग्यता रखी गई थी। 18 पदों के लिए जारी हुए परिणाम में 12वें स्थान पर रामकृष्ण का नाम है। रामकृष्ण ने बताया कि उसने पढ़ाई छोड़ रखी थी। वह खेती पिता के बताए फील्ड वर्क के काम देखता है। पिछले साल ही प्राइवेट परीक्षा देकर 10वीं पास की है।