उन्नाव गैंगरेप: पीड़िता के पिता की पीएम रिपोर्ट आने के बाद गिरफ्तार 5 लोगों पर लगी धारा 302

नई दिल्ली (10 अप्रैल): बांगरमऊ से भारतीय जनता पार्टी के विधायक कुलदीप सिंह सेंगर भले ही अपने को निर्दोष बता रहे हैं, लेकिन दुष्कर्म पीडि़ता के पिता की मौत के मामले में उनकी मुश्किलें कम नहीं होंगी। मंगलवार को दुष्कर्म पीडि़ता के पिता के मौत का कारण पोस्टमार्टम में साफ हो जाने से पुलिस के साथ ही जेल तथा जिला प्रशासन का सिरदर्द और बढ़ गया है।

उन्नाव गैंगरेप केस की जांच के लिए एसआईटी गठित कर दी है। एडीजी लॉ एंड ऑर्डर आनंद कुमार ने कहा कि एसआईटी उन्नाव पुलिस द्वारा दी गई रिपोर्ट की जांच करेगी। उन्नाव पुलिस का कहना है कि पीड़िता ने अपने बयान में बीजेपी विधायक का नाम नहीं लिया था। इसलिए उनके खिलाफ केस दर्ज नहीं हुआ है। जरूरत पड़ी तो उनसे भी पूछताछ की जाएगी।

आनंद कुमार ने बताया कि पीड़िता के पिता की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ गई है। इसमें उनकी मौत शॉक और आंत में छेद होने की वजह से बताई गई है। इस केस में कार्रवाई करते हुए यूपी पुलिस ने बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर के भाई सहित चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है। पीएम रिपोर्ट आने के बाद गिरफ्तार 5 लोगो पर धारा 302 यानी हत्या की धारा जोड़ी गई। वहीं एसआईटी इस केस से जुड़े हर लोगों से पूछताछ और जांच करेगी।

इससे पहले रविवार को इस महिला ने विधायक पर अपने साथियों के साथ मिलकर उसके साथ गैंगरेप का आरोप लगाया था। महिला का कहना है कि पिछले साल विधायक ने उसके घर में घुसकर उससे रेप किया था।

महिला ने कहा, 'मेरे साथ रेप किया गया. मैं एक साल तक दर-दर भटकती रही लेकिन किसी ने मेरी फरियाद नहीं सुनी। मैं चाहती हूं सभी आरोपी गिरफ्तार किए जाएं नहीं तो मैं खुदकुशी कर लूंगी। मैंने मुख्यमंत्री तक से अपनी फरियाद की लेकिन मेरी बात नहीं सुनी गई. जब हमने एफआईआर दर्ज कराई तो हमें धमकियां दी गईं।