प्रोटेम स्पीकर नहीं बदलेंगे, कांग्रेस की याचिका खारिज

नई दिल्ली (19 मई): कर्नाटक में विधानसभा बहुमत परीक्षण से ठीक पहले कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। हालांकि कांग्रेस-जेडीएस इसे अपनी जीत बताने में भी पीछे नहीं रह रही है। सुप्रीम कोर्ट ने प्रोटेम स्पीकर को बदलने वाली कांग्रेस की याचिका को खारिज करते हुए विधानसभा कार्यवाही को लाइव दिखाने की बात कही।अब प्रोटेम स्पीकर केजी बोपैया के नेतृत्व में ही बहुमत परीक्षण कराया जाएगा। सुनवाई के दौरान बहुमत परीक्षण का लाइव टेलिकास्ट किया जाएगा। इसपर कांग्रेस ने भी अपनी आपत्तियों को वापस ले लिया। कोर्ट में कांग्रेस के वकील कपिल सिब्बल ने कोर्ट में कहा कि संसद की परंपरा के मुताबिक सबसे वरिष्ठ सदस्य को ही प्रोटेम स्पीकर नियुक्त करना चाहिए। सिब्बल ने कहा कि प्रोटेम स्पीकर के रूप में बोपैया की नियुक्ति कर कर्नाटक के राज्यपाल ने लंबे समय से चली आ रही इस परंपरा को तोड़ा है।इस पर जस्टिस एसए बोबडे ने कहा कि पहले भी ऐसा हुआ है कि जब वरिष्ठ सदस्य प्रोटेम स्पीकर नहीं बनाए गए हैं। इसपर सिब्बल ने प्रोटेम स्पीकर के रूप में बोपैया के मामले को अलग बताते हुए कहा कि पहले भी विधायकों को अयोग्य ठहराने के उनके फैसले को कोर्ट रद्द कर चुका है। इसपर जस्टिस बोबडे ने कहा कि प्रोटेम स्पीकर की नियुक्ति को चुनौती देने पर नोटिस जारी करना पड़ेगा और फ्लोर टेस्ट टालना पड़ेगा।