Blog single photo

अब यूपी में NDA में बगावत के सुर

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में बीजेपी की हार के बाद एनडीए के सहयोगी दलों में विरोध के सुर तेज हो गए हैं.अभी बिहार में एनडीए के सहयोगियों में असंतोष पर काबू पाया ही गया था कि उत्तर प्रदेश और केंद्र में गठबंधन की अहम सहयोगी अपना दल

                                                                            

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (26 दिसंबर): पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में बीजेपी की हार के बाद एनडीए के सहयोगी दलों में विरोध के सुर तेज हो गए हैं.अभी बिहार में एनडीए के सहयोगियों में असंतोष पर काबू पाया ही गया था कि उत्तर प्रदेश और केंद्र में गठबंधन की अहम सहयोगी अपना दल (एस) ने सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ के खिलाफ नाराजगी जाहिर की है। यूपी में अपना दल को इस बात को नाराजगी है कि केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल को उत्तर प्रदेश में वो सम्मान नहीं मिलता जिसकी वे हकदार हैं। यहां तक की वाराणसी संसदीय क्षेत्र में आयोजित कार्यक्रमों में भी अनुप्रिया पटेल को नहीं बुलाया जाता, जबकि यह प्रधानमंत्री का संसदीय क्षेत्र है और अनुप्रिया के संसदीय क्षेत्र से मिर्जापुर से सटा है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि अगर इसी तरह सहयोगी दलों की बीजेपी उपेक्षा करती रही तो सोचना पड़ेगा।

मंगलवार को मीडिया से बात करते हुए आशीष पटेल ने राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ जैसे हिंदी भाषी राज्यों में बीजेपी की हार को चिंताजनक बताया। उन्होंने कहा कि राज्यों में हुई हार के मुद्दे पर नेतृत्व को चिंतन करने की आवश्यकता है। आशीष ने यह भी कहा कि एनडीए में शामिल दलों के नेता और कार्यकर्ता निराश और हताश हो गए है और सहयोगी दल के जनप्रतिनिधियों को उचित सम्मान नहीं मिल रहा है। ऐसे में अगर पार्टी के प्रदेश नेतृत्व का यही रवैया रहा तो एनडीए को यूपी में सर्वाधिक क्षति हो सकती है। बीजेपी को नसीहत देते हुए पटेल ने कहा, 'एसपी-बीएसपी का गठबंधन हमारे लिए चुनौती है और यूपी में एनडीए के सहयोगी इससे चिंतित हैं। बीजेपी केंद्रीय नेतृत्व को कुछ करना होगा अन्यथा यूपी में एनडीए को नुकसान उठाना होगा।'  

                                                              

पटेल ने कहा कि प्रदेश सरकार ने अपना दल के कार्यकर्ताओं को विभिन्न आयोगों में रिक्त पदों पर नियुक्त नहीं किया है। इसके अलावा प्रदेश में बीजेपी की सरकार बनने के बाद से लगातार केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल की उपेक्षा की जा रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्रीय मंत्री को वाराणसी में होने वाले पीएम मोदी के कार्यक्रमों में नहीं बुलाया जा रहा है, जिससे कि कार्यकर्ताओं में रोष है। हालांकि तमाम आरोपों के बीच बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की तारीफ करते हुए आशीष पटेल ने कहा कि जब भी गठबंधन के विषयों को अमित शाह के सामने उठाया गया, उन्होंने सभी समस्याओं का सकारात्मक समाधान जरूर किया।  

पत्रकारों से अपनी बातचीत के दौरान आशीष पटेल ने बीएसपी सुप्रीमो मायावती की सरकार के दौरान रही कानून व्यवस्था की तारीफ की। बीएसपी सुप्रीमो की तारीफ पर जब पत्रकारों ने आशीष पटेल से महागठबंधन में शामिल होने को लेकर सवाल किया तो उन्होंने ऐसी किसी भी संभावना को सिरे से खारिज कर दिया। इस बीच बीएसपी की तरफ से महागठबंधन को लेकर अब तक ठंडे रुख को देखते हुए अपना दल नेता के इस बयान ने नई सियासी अटकलों को बल दिया है।

Tags :

NEXT STORY
Top