नोटबंदी: भाजपा नेता के बैंक में खुले 100 से अधिक अकाउंट, 15 खातों में 1 करोड़ से ज्यादा हुए जमा

भोपाल ( 22 दिसंबर ): भाजपा नेता और आवास संघ के पूर्व अध्यक्ष सुशील वासवानी के बैरागढ़ स्थित महानगर सहकारी बैंक में नोटबंदी के बाद 10 से 15 नवंबर के दरमियान 100 से अधिक बैंक अकाउंट खोले गए थे। इनमें 15 खाते ऐसे हैं जिनमें एक करोड़ से अधिक की रकम जमा कराई गई। वासवानी के सात ठिकानों और इन्कम टैक्स विभाग के छापे में ये बातें सामने आई हैं। महानगर सहकारी बैंक की अध्यक्ष वासवानी की पत्नी किरण वासवानी हैं।

इन्कम टैक्स विभाग के अधिकारिक सूत्रों का कहना है कि जांच का पूरा केंद्र बैंक है। इसमें यह पता लगाया जाएगा की नोटबंदी के बाद जमा रकम में कितना काला धन है। इस धन का उपयोग वासवानी ने अपने कारोबार में तो नहीं किया। जांच में कुछ खातों को खोलने में रिजर्व बैंक के नियमों के उल्लघंन की बात भी सामने आई है।

वासवानी के महानगर सहकारी बैंक में कई प्रभावषाली नेताओं की रकम लगी है। इन्होंने पुराने नोट बदलवाने में वासवानी की मदद तो नहीं ली। इसकी जांच की जा रही है। सुषील वासवानी के महानगर सहकारी बैंक में छह और एसबीआई और पीएनबी के एक-एक लाॅकर मिले हैं। लाॅकरों से मिली नकदी और ज्वेलरी और दस्तावेजों की जांच की जा रही है। साथ ही वासवानी के घर से एक हजार और पांच सौ के नोट मिले है। जिनके बारे में पूछताछ की जा रही है।

सुशील वासवानी के हलालपुर और वैरागढ़ में कुल तीन होटल और एमपी नगर में सुजुकी शो रूम है। वासवानी के सभी ठिकानों पर आयकर विभाग ने एक साथ छापा मारा है।