2 वोट रद्द करने के फैसले को कोर्ट में चुनौती देगी बीजेपी

नई दिल्ली(9 अगस्त): गुजरात के राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल को आधे वोट से जीत मिली। मंगलवार रात हाईवोल्टेज ड्रामे के बीच वोटों की गिनती हुई। इसके पहले चुनाव आयोग ने कांग्रेस की मांग मानते हुए पार्टी के दो बागी विधायकों के वोट रद्द करने का ऑर्डर दिया। 

- माना जा रहा है कि दोनों ने क्रॉस वोटिंग कर बीजेपी कैंडिडेट बलवंत सिंह राजपूत को वोट दिया और अपना बैलेट पेपर पब्लिक किए।

-  अब बीजेपी ने ईसी के फैसले को कोर्ट में चुनौती देने की बात कही है। 

- बता दें कि गुजरात की कुल 11 में से 9 सीटों पर बीजेपी और 2 पर कांग्रेस का कब्जा हो गया है।

- अहमद पटेल को जरूरत के मुताबिक 44 वोट ही मिले, जो कांग्रेस के दावों से कम हैं। नतीजों के बाद उन्होंने कहा- ''सत्य की जीत हुई है। इस साल के असेंबली इलेक्शन में भी कांग्रेस जीतेगी।''

- सीएम विजय रूपाणी ने कहा, ''दो वोट रद्द करने का फैसला गलत है। बीजेपी इसे कोर्ट में चुनौती देगी। असल में तीसरी सीट पर बीजेपी डेढ़ वोट से जीत सकती थी, लेकिन वोट रद्द करने के चलते आधे वोट से हार गई। असेंबली इलेक्शन में इसका असर होगा, कांग्रेस आगे भी टूटती जाएगी और पार्टी की नाव डूबेगी।''

- ''सोनिया ने जैसे पुत्र (राहुल गांधी) के मोह में पार्टी को डुबाया है, वैसे ही पटेल को चुनाव जिताने के लिए राज्य में पार्टी डूब गई। इसमें सीधी दरार पड़ गई है। कांग्रेस कैंडिडेट को 61 सपोटर्स में से सिर्फ 44 ने वोट किया। बीजेपी के लिए खास बात यह है कि कांग्रेस की कोशिशों के बावजूद हमारे किसी विधायक ने क्रॉस वोटिंग नहीं की।''