अहमदाबाद: एक किमी क्षेत्र बर्ड फ्लू असरग्रस्त घोषित

अहमदाबाद ( 4 जनवरी ): हाथीजन गांव स्थित आशा फाउंडेशन में दो प्रजातियों के कुछ पक्षियों में बर्ड फ्लू की पुष्टि होने के बाद इससे बचने के संभव प्रयास किए जा रहे हैं। फाउंडेशन के एक किलोमीटर के दायरे को बर्ड फ्लू असरग्रस्त तो दस किलोमीटर का दायरा अलर्ट घोषित किया गया है, मुर्गी पालकों को सावधानी बरतने की चेतावनी दी है।

हाथीजन गांव स्थित आशा फाउंडेशन में टर्की और गिन्नी फाउल पक्षियों में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। इस क्षेत्र के अन्य पक्षियों में यह संक्रमण न फैले इसके लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं। जिला प्रशासनिक विभाग ने सतर्कता बरतते हुए आशा फाउंडेशन ए.पी. सेंटर से एक किलोमीटर के क्षेत्र को संक्रमित क्षेत्र घोषित किया है। साथ ही ए.पी. सेंटर से दस किमलोमीटर क्षेत्र को अलर्ट जोन घोषित किया है। इस क्षेत्र से जीवित व मृत पक्षी, अंडे व यहां से मशीन आदि सामान को बाहर लाने पर भी प्रतिबंध लगाया गया है।

बर्ड फ्लू ऐसा रोग है जो संक्रमित पक्षी से मनुष्य में सीधे फैल सकता है। यह रोग मुख्य रूप से पक्षियों में देखा जाता है। यह रोग एवियन इन्फल्यूएन्जा (एच5 एन1)नाक वाइरस से फैलता है। स्वास्थ्य विभाग ने मुर्गी पालकों को सतर्कता बरतने की चेतावनी दी है।

इलाज के लिए भेजे गए अलग-अलग प्रजातियों के पक्षियों के बर्ड फ्लू रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद यह निर्णय लिया गया। 31 दिसंबर को मुंबई के क्रॉफर्ड बाजार से 200 पक्षी इलाज के लिए लाये गए थे। आशा फाउंडेशन में लाये गए पक्षियों में से 9 की मौत हो गई थी। सपास के 10 किमी में स्थित 36 गांवों पशु पालन और आरोग्य विभाग की कई टीमों द्वारा जांच किया जा रहा है।