शरीर में करंट दौड़ा ओलंपिक की तैयारी कर रहे हैं शूटर अभिनव बिंद्रा

नई दिल्ली (19 जुलाई) : शूटर अभिनव बिंद्रा ओलंपिक में पदक के लिए कोई कसर नहीं छोड रहे हैं। इसके लिए उन्होंने वैज्ञानिक तरीकों का सहारा लिया है। वे अपने नर्व सिस्टम में सुधार के लिए वह ‘इलेक्ट्रोमैगनेटिक सिस्टम’ का सहारा ले रहे हैं।

बीजिंग ओलंपिक के स्वर्ण पदक विजेता बिंद्रा म्यूनिख में आगामी रियो ओलंपिक खेलों के लिए तैयारी कर रहे हैं।

बिंद्रा के पिता अपजित बिंद्रा ने बताया कि उन्हें बामुश्किल भारत के इस एकमात्र व्यक्तिगत ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता से बात करने का मौका मिलता है।

बिंद्रा सीनियर ने कहा, ‘‘वह इलेक्ट्रोमैग्नेटिक प्रणाली का इस्तेमाल कर रहा है। इस प्रणाली के तरत शरीर में डाला जाने वाला करंट सीधा स्नायु प्रणाली में जाता है। यह स्नायु प्रणाली के काम करने के तरीके में सुधार करता है। यह जटिल प्रक्रिया है।’’

उन्होंने साथ ही कहा, ‘‘पिछले डेढ़ महीने में एक हफ्ते में सिर्फ एक बार बात कर रहे हैं। वह यहां उस पर लिखे जा रहे लेख पर बात नहीं करना चाहता। उसका ध्यान सिर्फ खेलों पर है। वह भारत के सबसे अनुभवी ओलंंपियन में हैं और पांच खेलों में हिस्सा ले चुका है। यह लगभग 20 साल हैं।’’