एंड्रॉइड यूजर्स के लिए आई 'बुरी' खबर, जानें...

नई दिल्ली (8 अगस्त): एंड्राइड यूजर्स के लिए ये खबर सावधान करने वाली है। करीब 90 करोड़ क्वैलकॉम प्रोसेसर्स वाले एंड्राइड डिवाइसेस में बड़े जोखिम वाली कमियां मौजूद हैं। ये दावा सिक्योरिटी कंपनी 'चेक प्वाइंट' सॉफ्टवेयर टेक्नॉलॉजीस ने किया है।

- टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, क्वैलकॉम प्रोसेसर्स, क्वैडरूटर वाली डिवाइसेस में 4 ऐसी खामियां या कहें कमजोरियां हैं, जिसके जरिए ये हैकर्स की शिकार हो सकती हैं। - इन कमियों के चलते हैकर्स आपके स्मार्टफोन पर पूरा कंट्रोल हासिल कर सकता है। - हैक करने के बाद आपकी डिवाइस की संवेदनशील निजी सूचनाएं और व्यावसायिक डेटा को भी बिना रोक-टोक एक्सेस किया जा सकता है। - एक बार एक्सेस मिलने पर अटैकर की-लॉगिंग, GPS ट्रैकिंग और ऑडियो-वीडियो रिकॉर्डिंग को भी कंट्रोल करने में सक्षम हो सकता है। - चेक प्वाइंट ने एक ब्लॉग पोस्ट में इन कमजोर प्वाइंट्स की जानकारी दी है।

कैसे हो सकता है स्मार्टफोन हैक?

- हैकर किसी भी संदिग्ध एप्लीकेशन के जरिए इन चार कमजोरियों पर पकड़ हासिल कर सकता है। - ऐसे किसी एप को कोई भी स्पेशल पर्मिशन की जरूरत नहीं होगी। जिससे इन कमजोरियों का फायदा उठाया जा सके।  - यहां तक कि यूजर्स को इंस्टॉल करने के दौरान भी कोई शक नहीं होता। - ब्लॉग में जिक्र है कि क्वैडरूटर स्मार्टफोन ड्राइवर्स को प्रभावित करता है, जो कई चिपसेट कॉम्पोनेंट्स के बीच में कम्यूनिकेशन स्थापित करता है।  - क्योंकि कमजोर ड्राइवर पहले से ही मैनुफैक्चरिंग के टाइम ही डिवाइसेस में इंस्टॉल किया गया है। ऐसे में इसे तभी फिक्स किया जा सकता है, अगर OEMs या कैरियर्स एक सॉफ्टवेयर पैच जारी करते हैं। - चेकप्वाइंट्स यूजर्स को लेटेस्ट एंड्राइड अपडेट्स को इंस्टॉल करने की सलाह देता है, जैसे ही वे उपलब्ध होते हैं। - सबसे नए स्मार्टफोन्स जिनमें कमजोर क्वैडरूटर्स हैं, उनमें हैं- सैमसंग गैलेक्सी S7, गैलेक्सी S7 एज, वनप्लस 3, गूगल नेक्सस 5X, नेक्सस 6, नेक्सस 6P, LG G4, LG G5, LG V10, वनप्लस वन, वनप्लस 2, वनप्लस 3 के अलावा और भी। - इस साल पहले मई में ऐसा पाया गया था कि कई लाख एंड्राइड स्मार्टफोन्स जिनमें क्वैलकॉम प्रोसेसर्स चल रहा है, उनमें कुछ गड़बड़ की गई है। जिसका इस्तेमाल हैकर्स डिवाइस एक्सेस करने के लिए कर सकते हैं।