सरोगेसी बिल बदलाव के साथ पास, सरकार ने बनाए ये कड़े नियम

Photo: Google 

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (20 दिसंबर): मोदी सरकार ने सरोगेसी बिल को लोकसभा में ध्वनिमत के साथ पास करा दिया है। हालांकि इस बिल में कुछ बदलाव किए गए हैं, जिसके अनुसार अब एक महिला जिंदगी में एक बार सरोगेसी कर सकेगी। इसी के साथ अब आप पैसों के लिए सरोगेसी नहीं कर सकेंगे। सरकार ने इसमें जो परिवर्तन किया है, उसके अनुसार अब आप किसी के परोपकार के लिए सरोगेसी कर सकेंगे।

नए बिन के अनुसार, सरोगेसी (किराए की कोख) के प्रभावी नियमन को सुनिश्चित करेगा, व्यावसायिक सरोगेसी को प्रतिबंधित करेगा और निसंतान भारतीय दंपतियों की जरूरतों के लिए सरोगेसी की इजाजत देगा। सरोगेसी के लिए बनाए जा रहे प्रावधानों का उल्लंघन करने पर बिल में कठोर सजा का भी प्रावधान किया गया है। यह नई व्यवस्था आम लोगों के साथ-साथ उन स्टार्स को भी प्रभावित करेगी जो सरोगेसी से माता-पिता बनना चाहते हैं।

ये ले सकते हैं सरोगेसी की मदद

सरोगेसी बिल के मुताबिक ऐसे दंपती जिनमें एक या दोनों मां-पिता बनने में सक्षम नहीं हों या किसी भी वजह से जिनके बच्चे न हों, वे सरोगेसी की मदद ले सकते हैं। इसमें अपवाद के तौर पर ऐसे कपल को शामिल किया गया है जिनका बच्चे मानसिक या शारीरिक रूप से सक्षम नहीं हैं या किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित हैं।

इनको नहीं मिलेगी इजाजत

सरोगेसी बिल ने ऐसे लोगों को भी चिह्नित किया है, जिन्हें सरोगेसी की इजाजत नहीं मिलेगी। बिल के मुताबिक सिंगल पुरुष व औरतें, अविवाहित जोड़ों और होमोसेक्शुअल को सरोगेसी की इजाजत नहीं मिल पाएगी।

गिफ्ट कर सकेंगी औरतें

सरोगेसी बिल के सबसे प्रमुख प्रावधानों में से एक यह है कि इसकी मदद से कर्मशल सरोगेसी पर रोक लगाई गई है। इसके तहत सरोगेसी की मदद ले रहे लोग इसके लिए केवल महिला के मेडिकल खर्च और इंश्योरेंस कवरेज का ही भुगतान कर पाएंगे। सरोगेसी करने वाली महिला उस दंपती की करीबी रिश्तेदार होनी चाहिए और उसकी उम्र 25-35 साल के बीच होनी चाहिए। इसके अलावा उस महिला का कम से कम एक अपना बच्चा होना चाहिए।

सरोगेसी बिल के मुताबिक अब कोई महिला जीवन में केवल एक बार सरोगेसी की मदद से दूसरे दंपती के बच्चे पैदा कर सकेगी। इस नए प्रावधान से महिला एवं बाल विकास मंत्रालय का वह पुराना नियम खत्म हो जाएगा, जिसमें किसी महिला को अपने बच्चे समेत पांच बार तक बच्चे पैदा करने की अनुमति मिलती थी।

नियम तोड़े तो होगी 10 साल की सजा

सरोगेसी बिल के मुताबिक इसके नियमों को काफी कठोर बना दिया गया है। अगर सरोगेसी के ये प्रावधान तोड़े गए तो इसके इच्छुक दंपती और सरोगेट मदर को क्रमशः कम से कम 5 साल और 10 साल तक की सजा हो सकती है। इसके अलावा 5 लाख तक और 10 लाख का जुर्माना भी लगाया जा सकता है।