बिहार में महिला सिपाही की मौत के बाद हिंसा का मामला: एक साथ 175 पुलिसकर्मी सस्पेंड

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (5 नवंबर): पटना पुलिस लाइन में उपद्रव किये जाने के मामले में बड़ी कार्रवाई की गयी है। बिहार में पहली बार अनुशासनहीनता के आरोप में 175 पुलिस कांस्टेबल को सेवा से सस्पेंड कर दिया गया है।  इनमें से करीब 167 वो सिपाही हैं , जिनकी अभी ट्रेनिंग ही चल रही थी। आईजी नैयर हसनैन के आदेश पर मामले की जांच कर रहे एसएसपी मनु महाराज ने  जांच रिपोर्ट तैयार करने के बाद सख्त कदम उठाया है।सख्त कार्रवाई के तहत 167 प्रशिक्षु सिपाहियों को बर्खास्त कर दिया गया है. इनमें महिला और पुरुष दोनों पुलिसकर्मी शामिल हैं। इसके अलावा आठ रेगुलर सिपाहियों  की भी सेवा समाप्त कर दी गयी है। कुल 175 पुलिसकर्मियों पर बर्खास्तगी की गाज गिरी है। इनमें 27 हवलदारों को निलंबित किया गया है। इन पर अनुशासनहीनता बरतने, सरकारी कार्य में बाधा डालने, सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने और अपने सीनियर अधिकारियों पर जानलेवा हमला करने का गंभीर आरोप है। इस कार्रवाई के बाद पुलिस लाइन में हड़कंप की स्थिति है। 

जांच रिपोर्ट एक्शन की कॉपी  रविवार की शाम आईजी नैयर हसनैन खान को सौंप दी गयी। पुलिस लाइन में शुक्रवार को जो कुछ हुआ, उसके पीछे कुछ सिपाही व हवलदार रैंक के कर्मी थे। इन लोगों ने एक ट्रेनी महिला सिपाही की मौत के बाद डीएसपी (पुलिस लाइन) के खिलाफ उकसाया। फुटेज में सबूत मिलने के बाद पुलिस ने आठ सिपाहियों की सेवा समाप्त की गयी है। इन सबने शुक्रवार को पटना पुलिस लाइन में एक महिला ट्रेनी कांस्टेबल की मौत के बाद न केवल हंगामा किया था, बल्कि अधिकारियों की पिटाई में भी शामिल थे। इसके अलावा इनलोगों ने सरकारी वाहनों में  भी तोड़फोड़ की थी। आपको बता दें कि महिला ट्रेनी कॉन्सटेबल की डेंगू की वजह से मौत हो गई थी, क्योंकि उसे आराम नहीं करने दिया गया था।