Blog single photo

पाकिस्तानी बच्ची को बना दिया 'स्वच्छ जमुई स्वस्थ जमुई' का ब्रांड एंबेसडर

बिहार के जमुई जिले में स्वच्छता अभियान की नोटबुक में कथित तौर पर एक पाकिस्तानी लड़की की तस्वीर 'ब्रांड एंबेसडर' के तौर पर छाप दी गई है। जिसके बाद अब नया विवाद शुरू हो गया है। अब खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इसपर संज्ञान लिया है और जांच के आदेश दिए हैं।

नई दिल्ली (05 मई): बिहार के जमुई जिले में स्वच्छता अभियान की नोटबुक में कथित तौर पर एक पाकिस्तानी लड़की की तस्वीर 'ब्रांड एंबेसडर' के तौर पर छाप दी गई है। जिसके बाद अब नया विवाद शुरू हो गया है। खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इसपर संज्ञान लिया है और जांच के आदेश दिए हैं।

गूगल पर इस तस्वीर को सर्च किया गया तो मामला साफ हुआ। पाकिस्तान में कार्य कर रही यूनिसेफ कीीअ  इस बच्ची के तस्वीर का उपयोग शिक्षा के प्रचार-प्रसार में किया जा रहा है। साथ ही पाकिस्तान में इस तस्वीर को एक ब्रांड के रूप में यूज किया जा रहा है।

जिला जल एवं स्वच्छता समिति ने 5-5 हजार कुंजी और नोटबुक का वितरण जिले के सभी स्कूल, आंगनवाडी केंद्रों और कस्तूरबा विद्यालय के बच्चियों के बीच किया है। साथ ही स्वच्छता को लेकर आयोजित प्रतियोगिताओं में भी इस नोटबुक (कॉपी) का उपयोग समिति द्वारा अब भी किया जा रहा है. जिसमें पाकिस्तानी लड़की को ब्रांड के रूप में पेश किया गया है।

पटना की प्रिंटिंग प्रेस सुप्रभ इंटरप्राइजेज द्वारा नोटबुक की छपाई की गई है। जिला जल एवं स्वच्छता समिति द्वारा 5-5 हजार कुंजी और नोटबुक छापने का आर्डर इस प्रिंटिंग प्रेस को दिया गया था। प्रिंटिंग प्रेस के प्रोपराईटर शैलेश कुमार ने बताया कि 4 लाख 80 हजार रूपया कुंजी व 78400 रुपए नोटबुक की छपाई में भुगतान हुआ है। कवर पृष्ठ पर पाकिस्तानी लड़की की तस्वीर लगाने के मामले में प्रोपराइटर ने बताया कि प्रिंटिंग के पहले स्वीकृति के लिए समिति को भेजा गया था जहां से अनुसंशा मिलने के बाद छपाई की गई है।

Tags :

NEXT STORY
Top