बिहार के 8 रेलवे स्टेशन ISI के निशाने पर

सौरभ कुमार, पटना (29 जनवरी): बिहार के मोतिहारी के समीप घोड़ासहन में ट्रेक उड़ाने की साज़िश की जांच में पता चला कि कानपुर हादसे में आईएसआई का हाथ था। हालांकि मामले की जांच में एनआईए जुट गई। मगर रेलवे इंटेलिजेंस के इनपुट ने होश उड़ाए दिए है। इंटेलिजेंस रिपोर्ट के अनुसार, बिहार के 8 स्टेशन आतंकियों के निशान पर है।

इन स्टेशनों में एक मोतिहारी भी जहां से आतंकी कनेक्शन मिले। पटना, पटना साहिब, राजेन्द्र नगर टर्मिनल, दानापुर, पूर्णिया, भागलपुर, कटिहार और मोतिहारी वो स्टेशन जहां हादसे की आशंका के इनपुट हैं। रेल आईजी ने खुद माना कि बिहार के रेल नेटवर्क पर खतरा बना हुआ है और इसमें नक्सलियों का इस्तेमाल भी मुमकिन है।

पटना स्टेशन पर बैग स्कैनर से सीसीटीवी कैमरे को फुल ओपरेटिव किया गया है। 24 घंटे चप्पे-चप्पे पर नज़र रखी जा रही है। 23 जनवरी को दलसिंहसराय के पास भागलपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस को डिरेल करने की कोशिश की गई। दानापुर रेल मंडल के प्रबंधक ने भी ये माना कि सुरक्षा से जुड़े मसले जिसपर रेलवे काम कर रही है।

बिहार में रेलवे की सुरक्षा एक बड़ी चुनौती है। ख़ासकर भारत नेपाल सीमा पर आतंकी गतिविधियों के बढ़ने की सूचना, गिरफ्तारियां और साज़िश की खबर ने रेलवे की चिंता बढ़ाई है और फिलहाल बिहार में रेड सिग्नल।