फोटो: बाढ़ के बाद पानी में डूबा बिहार, देखें भयानक नजारा

नई दिल्‍ली (14 अगस्त): उत्तर से लेकर पूर्वोत्तर तक बारिश के बाद आई बाढ़ का कहर देखने को मिल रहा है। उत्तराखंड में बादल फटा तो बिहार और असम में बाढ़ से हालात काफी भयावक हो उठे हैं। अकेले बिहार में बाढ़ ने 10 लाख लोगों को प्रभावित किया है। एनडीआरएफ की टीमें राहत बचाव कार्य में जुटीं।

पिछले 24 घंटों में हुई मूसलाधार बारिश में बिहार के कई जिलों में गांव के गांव बाढ़ में डूब गए। मौसम विभाग ने अगले 48 घंटे और बारिश की संभावना जताई। बिहार में दरभंगा के अस्पताल DMCH के वॉर्ड में पानी भर गया है। अस्पताल में बारिश के पानी के बीच ही मरीजों का इलाज किया जा रहा है। बारिश की वजह से हॉस्पिटल में दवाईयां भी बर्बाद हो गई हैं। अस्पताल की कई मशीनें पानी की वजह से काम नहीं कर रही हैं।

- किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया और अररिया में बाढ़ की स्थिति गंभीर हुई। एयरफोर्स से मदद मांगी गई।

- किशनगंज में रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, सरकारी दफ्तरों में घुसा पानी। कई इलाकों में बिजली की सप्लाई, कम्युनिकेशन, इंटरनेट सर्विस ठप। - बिहार के किशनगंज में बाढ़ से बेकाबू हुए हालात। कई गांव पानी में डूबे, फसलों को भारी नुकसान। - किशनगंज में नदी में डूबने से एक महिला की मौत, तीन लापता। महानंदा नदी पर बने बांध में भी आई दरार। - कटिहार में प्रशासन ने अलर्ट जारी किया। कटिहार के आगे ट्रेन नहीं जा रही हैं। नॉर्थ-ईस्ट से देश का संपर्क टूटा। - पूर्णिया के अमौर और बैसा ब्लॉक की 40 पंचायतों की 10 लाख आबादी प्रभावित। अमौर में दो बहनें डूब गईं।

- अररिया के कलेक्ट्रेट, थाना, अस्पताल, डीएम, एसडीओ, एसपी आवास पानी-पानी हुआ।

अररिया-जोगबनी रूट पर ट्रेन बंद। - सुपौल में कोसी नदी का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। 130 गांवों में पानी भरा। निचली बस्तियों से लोगों को निकाला जाना जारी।

- सुपौल मूसलाधार बारिश से एक घर की दीवार गिरी, 2 बच्चों की मौत। मधुबनी, सीतामढ़ी और दरभंगा जिले में लोगों को मदद का इंतजार।

- सीतमढ़ी के सुरसंड के जिला मुख्यालय से संपर्क पूरी तरह कट गया है। नेशनल हाइवे 104 पर कई फीट पानी जमा हुआ है।