बिहार में बाढ़ से हालात बेकाबू, 100 से ज्यादा ट्रेनें रद्द, यात्रियों में अफरातफरी

पटना (14 अगस्त): बिहार में बाढ़ की स्थिति लगातार भयावह होती जा रही है। बिहार के 12 जिलों के लोग बाढ़ से बेहाल हैं। इन इलाकों में लोगों को राहत पहुंचाने के लिए एनडीआरएफ और सेना ने कमान संभाल ली है। आर्मी के साथ-साथ राहत एवं बचाव के लिए वायुसेना से भी बिहार सरकार ने मदद मांगी है। राज्य के हजारों गांव बाढ़ के पानी में डूब गए हैं, जिसके कारण लाखों की तादाद में लोग प्रभावित हुए हैं।

आपदा प्रबंधन विभाग के अधिकारियों ने कहा कि राज्य सरकार ने अपने कर्मचारियों को सतर्क कर दिया है, और बाढ़ प्रभावित किशनगंज, अररिया, पूर्णिया, कटिहार, पश्चिम चंपारण, सहरसा, और सुपौल जिलों में निवासियों को खाली करने के आदेश दिए गए हैं। बाढ़ की वजह से पूर्वोत्तर के राज्यों से भारतीय रेलवे का संपर्क टूट गया है। जिससे भारी तादद में रेल यातायात प्रभावित हुआ है।

अलीपुरद्वार, लमडिंग और कटिहार रेल डिवीज़न पर 118 ट्रेनों को अबतक कैंसिल किया जा चुका है। इसमें 70 एक्सप्रेस और 48 पैसेंजर ट्रेन शामिल है। वहीं 80 ट्रेनों को आंशिक रुप से कैंसिल किया गया है। जिसमें 54 मेल और 26 पैसेंजर ट्रेन शामिल है।

समस्तीपुर रेल डीविजन में ट्रेनों के यातायात पर असर पड़ा है। यहां अबतक 16 ट्रेनों को कैंसिल किया गया है जबकि 26 ट्रेनों को आशिंक रुप से कैंसिल किया गया है। वहीं 19 ट्रेनों के रूट में बदलाव किया गया है।