PM के कार्यक्रम के लिए प्रस्तावित स्थल पर किसानों ने फसल काटने से किया इनकार

नई दिल्ली (4 मार्च): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बिहार में होने जा रहे एक कार्यक्रम के लिए प्रस्तावित स्थल पर एक समस्या खड़ी हो गई है। दरअसल प्रधानमंत्री 12 मार्च को रेलवे प्रोजेक्ट्स के लोकार्पण के लिए बिहार के हाजीपुर जाने वाले हैं। इस कार्यक्रम के लिए जो स्थल प्रस्तावित किया गया है, वह सुल्तानपुर गांव में 60 एकड़ के खेत हैं। जहां अधपकी फसल खड़ी हुई है। जिसे किसानों ने काटने से मना कर दिया है।

रिपोर्ट के मुताबिक, हाजीपुर इंडस्ट्रीयल एरिया पुलिस स्टेशन के अंतर्गत आने वाले सुल्तानपुर गांव के किसानों ने अपनी गेहूं की फसल को हटाने से मना कर दिया है। जो जल्दी ही तैयार होने वाली है। जिलाधिकारी रचना पाटिल ने शुक्रवार को बताया, "हम मामले को देख रहे हैं।" पूर्व मध्य रेलवे (ईसीआर) के चीफ पब्लिक रिलेशन्स ऑफिसर अरविंद कुमार राजक ने बताया कि विरोध को देखते हुए, कार्यक्रम स्थल के लिए विकल्प तलाशे जा रहे हैं। डीएम पाटिल ने वैकल्पिक स्थल के बारे में अभी फैसला नहीं किया है।

प्रधानमंत्री मुंगेर में एक नए रेलवे ब्रिज के साथ दीगा-सोनेपुर रेल-कम रोड ब्रिज का लोकार्पण करने आने वाले हैं। इस कार्यक्रम का आयोजन ईसीआर की तरफ से 12 मार्च को किया जाना है। इस मौके पर प्रधानमंत्री रेलमंत्री सुरेश प्रभु के साथ कुछ नई ट्रेनों को भी हरी झंडी दिखाने वाले हैं। इससे पहले बुधवार को ईसीआर जनरल मैनेजर एके मित्तल और चीफ सेक्रेटरी अंजनी कुमार सिंह के बीच हुई एक बैठक में यह फैसला हुआ कि जिन 12 से ज्यादा किसानों पर इसका असर पड़ेगा, उन्हें हर्जाना दिया जाएगा।

सब डिवीजनल ऑफिसर रवींद्र कुमार पिछले दो दिनों से किसानों से उनकी जमीन के लिए मनाने के लिए मनाने की कोशिश कर रहे हैं। राजा राम राय नाम के एक किसान ने कहा, "गेहूं की फसल उनके लिए छोटे बेटे की तरह है, जिसे खोना हम नहीं चाहते।"