बिहार के DGP ने पुलिस पर उठाये सवाल, कहा- 'रात में तो छोड़िए, दिन में भी नहीं करते पेट्रोलिंग'


न्यूज 24 ब्यूरो,नई दिल्ली (28 दिसंबर): बिहार के पुलिस महानिदेश (DGP) ने अपनी ही पुलिस की कार्यशैली पर सवाल खड़े किए हैं।  डीजीपी केएस द्विवेदी ने सभी जिलों के एसपी को पत्र लिखकर अपनी नाराजगी जाहिर की है, जिससे (Bihar Police) महकमे में खलबली मच गई है। लेटर में डीजीपी ने कहा है कि सूबे में रात्रि गश्ती की बात तो बहुत दूर की है यहां तक कि दिन में भी नियमित गश्ती नहीं की जा रही है। हालांकि, उनका मानना है कि इसके बावजूद भी अपराध में कमी आई है। लेकिन अपराधियों के मनोबल में कमी नहीं आई है।


डीजीपी की माने तो अपराधियों के मन में बैठ गया है कि अपराध करके वो लोग आराम से फरार हो जाएंगे। बता दें कि इससे पहले भी डीजीपी ने शराब, हथियार और प्रतिबंधित वस्तुओं की रोकथाम के लिए नाकेबन्दी का सुझाव दिया था। लेकिन इस सुझाव का पालन नहीं किया गया, अब एक बार फिर से डीजीपी ने सभी जगह नाके लगाने के निर्देश दिए हैं।





केएस द्विवेदी ने आदेश दिया है कि हर नाके में जिला पुलिस बल से 20 जवान तैनात किए जाएं। इस पत्र से पुलिस महकमें की बड़ी लापरवाही उजागर हुई है। अब सोचने वाली बात यह है कि जिन पुलिसवालों की कार्यशैली से उनका मुखिया ही संतुष्ट नहीं हैं तो ऐसे में उनसे राज्य की जनता कितनी खुश होगी.


डीजीपी के केएस दिवेदी कई दिशा-निर्देश भी जारी किये हैं। डीजीपी ने यह भी कहा कि स्पीडी ट्रायल को भी लेकर पुलिस अफसरों का उदासीन रवैया देखने को मिल रहा है। उन्होंने कहा कि यह नहीं चलेगा। सभी पुलिस अधिकारियों को टाइट होकर ड्यूटी करनी पड़ेगी। डीजीपी ने आदेश दिया कि हर नाके में जिला पुलिस बल से 20 जवान तैनात किए जाएं। डीजीपी के इस लेटर से पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया है। साथ ही बिहार में स्मार्ट पुलिसिंग की भी कलई खुल गयी है।