बिहार में मिठाई, समोसे पर भी लगेगा लग्जरी टैक्स

पटना(13 जनवरी): बिहार में एक अप्रेल से शराबबंदी हो सकती है, जिसके बाद राज्य को होने वाले राजस्व घाटे की भारपाई के लिए बिहार सरकार ने एक दर्जन वस्तुओं पर टैक्स में वृद्धि कर दी है और कई पर नया टैक्स लगा दिया है। लग्जरी सामान पर टैक्स की दर को बढ़ाकर 13.5 प्रतिशत तक करने के प्रस्ताव को राज्य मंत्रिमंडल ने मंजूरी दे दी है। मंत्रिमंडल की सहमति के साथ ही राज्य में साड़ी, मच्छर भगाने की टिकिया, मिठाई, नमकीन से लेकर सूखे मेवे और बालू तक का महंगा होना तय हो गया है।

मुख्यमंत्री नीतिश कुमार की अध्यक्षता में मंगलवार को हुई इस बैठक के बाद प्रधान सचिव बृजेश महरोत्रा ने बताया कि 500 रुपए से अधिक प्रति मीटर के कपड़े और 2000 रुपए से अधिक मूल्य की साड़ी पर अब 5 प्रतिशत की दर से टैक्स देय होगा। यह अब तक शून्य था। महरोत्रा ने बताया कि 500 रुपए से अधिक प्रति किलोग्राम की मिठाइयां पहले टैक्स मुक्त थीं, पर अब उन पर भी 13.5 प्रतिशत के हिसाब से टैक्स लगाया जाएगा। महरोत्रा ने बताया कि ब्रांडेड और संरक्षित नमकीन खाद्य पदार्थों पर 13.5 प्रतिशत की दर से टैक्स लगेगा।

उन्होंने बताया कि ब्रैंडेड और संरक्षित नमकीन खाद्य पदाथार्थों पर 13.5 प्रतिशत की दर से कर लगेगा। इस फैसले के बाद समोसा, निमकी, कचौड़ी, चनाचूर गरम, भुजिया, दालमोट, तले हुए आलू के चिप्स और नमकीन मूंगफली पर 13.5 प्रतिशत टैक्स लगेगा, पहले इन आइटमों पर कोई टैक्स नहीं लगता था। बृजेश महरोत्रा ने बताया कि यूपीएस, इनवर्टर, बैटरी टॉर्च और सूखे मेवे पर टैक्स की दर 5 प्रतिशत से बढ़ाकर 13.5 प्रतिशत कर दी गई है। इसी तरह गाड़ियों के कल-पुर्जों पर भी अब 13.5 प्रतिशत की दर से कर लगेगा।