उरी हमले के बारे में हुआ एक और बड़ा खुलासा !

नई दिल्ली (24 सितंबर): बीते 18 सितंबर को उरी में हुए आतंकी हमले को लेकर एक और बड़ा खुलासा हुआ है। भारतीय एजेंसियों पता चला है इस हमले में आईएसआई और पाकिस्तान की मिलिट्री इंटेलीजेंस का भी हाथ था। जैश-ए-मुहम्मद के आतंकियों को आगे करके आईएसआई और पाकिस्तान की मिलिट्री इंटेलीजेंस उरी में सेना के कैंप पर 15 अगस्त को ठीक उसी समय हमला करने वाली थी जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लाल किले की प्राचीर से देश को संबोधित कर रहे थे।

ऐसा करके वो भारतीय सेना के सरकार के मनोबल को तोड़ देना चाहते थे, लेकिन भारतीय सेना ने उस दिन वक्त रहते सभी आतंकियों को मार गिराया था। इसी बाद फिर से पूरी तैयारी करके  18 सितंबर को दोबारा हमले को अंजाम दिया गया। सेना के सूत्रों से मीडिया में आयी जानकारी कि दूसरे दस्ते में जो आतंकी आये थे,वो दिखने में सेना के जवानों से थे। उनका हेयर कट बिल्कुल जवानों सा था, साथ ही वो बिना दाढ़ी के थे। इसकी वजह से स्थानीय लोगों को उन पर शक भी नहीं हुआ।