डोभाल ने चीन में कराया गृह युद्ध

नई दिल्ली (25 जुलाई): भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल की चीन यात्रा को लेकर वहां की सरकारी मीडिया दो अलग-अलग भांगों में बंट गई है। जहां चाइना डेली डोकलाम मसले के शांतिपूर्ण हल की उम्मीद जता रहा है, वहीं ग्लोबल टाइम्स अलग रुख अपनाते हुए डोभाल को सिक्किम विवाद का 'मुख्य षड्यंत्रकर्ता' बता रहा है।

चाइना डेली ने अपने संपादकीय में लिखा है, 'सिक्किम मसले के समाधान के लिए अभी भी देरी नहीं हुई है।' अखबार ने इस विवाद के समाधान के लिए संघर्ष से बचने की सलाह दी है। वहीं, ग्लोबल टाइम्स अपने संपादकीय में लिखता है, 'डोभाल की यात्रा से सीमा विवाद का समाधान नहीं होने वाला है।' अखबार लिखता है कि पेइचिंग तबतक बात नहीं करेगा जबतक सीमा पर से भारतीय सेना पीछे न हट जाए।

चाइना डेली ने लिखा है, 'अभी भी उम्मीद है कि दोनों देशों के बीच गतिरोध शांतिपूर्वक खत्म हो सकता है। यही दोनों देशों के हित में भी होगा।' अखबार ने भारतीय विदेश सचिव एस जयशंकर के उस बयान का भी हवाला दिया जिसमें उन्होंने कहा था कि दोनों देश आपसी मतभेदों को विवाद में तब्दील नहीं होने देंगे। अखबार लिखता है कि डोभाल की यात्रा से भारत की पिछली नीति में बदलाव आ सकता है।

चाइना डेली लिखता है, 'दोनों पक्षों को गतिरोध समाप्त करने के लिए कदम उठाने की जरूरत है। अगर भारत सैन्य संघर्ष को रोकने के लिए कदम नहीं उठाता है तो इससे दोनों देशों को नुकसान होगा और इससे क्षेत्रीय शांति भी भंग होगी।'

बता दें कि डोभाल ब्रिक्स के नेशनल सिक्यॉरिटी अडवाइजर्स की मीटिंग ब्रिक्स समिट में भाग लेने के लिए इस सप्ताह चीन जा रहे हैं। 27-28 जुलाई को होने वाली इस बैठक में ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका के एनएसए शामिल होंगे। डोभाल के अपने चीनी समकक्ष येन जेइची से सीमा विवाद के मसले पर बातचीत करने की उम्मीद है।