चालबाज चीन का झूठा दावा, कहा- भूटान ने माना डोकलाम ड्रैगन का हिस्सा

नई दिल्ली(9 अगस्त): चीन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा है कि भूटान ने मान लिया है कि डोकलाम चीन का इलाका है। सीमा मामलों से जुड़े वरिष्ठ अधिकारी वांग वेन्ली का दावा है कि भूटान ने राजनयिक के जरिये बताया है कि जिस जगह को लेकर चीन व भारत के बीच विवाद चल रहा है वह उसका अधिकृत इलाका नहीं है।

- भारतीय पत्रकारों के एक दल से बातचीत में वेन्ली इस बात का कोई साक्ष्य पेश नहीं किया। उनका कहना है कि भूटान सरकार खुद मान रही है कि भारत की सेना चीन की धरती पर जाकर आंखें तरेर रही है जबकि उस जगह से उसका कोई लेनादेना नहीं है। 

- वेन्ली चीन के सीमा संबंधी विभाग के अतिरिक्त समुद्री मामलों की उप महानिदेशक हैं। उनका कहना था कि इस बात की जानकारी उन्हें भूटान की मीडिया के अलावा कानूनी ब्लाग्स से भी मिली है। उनका दावा है पुख्ता सूचना के लिए ये भरोसेमंद सूत्र हैं।

-वांग का कहना है कि भूटान इस बात को समझ रहा है कि दोनों देशों की सेनाएं उसकी धरती का इस्तेमाल विवाद में कर रही हैं। उनका कहना है कि भूटान का चीन से राजनयिक संबंध नहीं है। दोनों देशों के बीच सीमा विवाद को सुलझाने के लिए 24 दौर की वार्ताएं हो चुकी हैं जबकि भारत के साथ चीन 19 बार सीमा विवाद पर बैठक कर चुका है। चीन का भारत व भूटान समेत 14 देशों से सीमा विवाद चल रहा है। बीस हजार किमी का सीमा विवाद चीन सुलझा चुका है जबकि बाकी के दो हजार किमी का विवाद सुलझाने के लिए भारत व भूटान से बातचीत लगातार जारी हैं।