मुठभेड़ में मारे गए 8 आतंकियों में से 5 खंडवा के

भोपाल(31 अक्टूबर): मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के सेंट्रल जेल से फरार 8 आतंकियों को एनकाउंटर में मार गिराया गया। इन 8 आतंकियों में से 5 आतंकी एमपी के ही खंडवा के रहने वाले हैं। 

- मध्यप्रदेश सिमी का गढ़ है। खासतौर पर उज्जैन और इंदौर का इलाका उनका कार्यक्षेत्र रहा है।

- 2007 में इंदौर से सिमी के एक दर्जन सदस्य पकडे गये थे। उनमें केरल कर्नाटक और महाराष्ट्र के लोग भी थे। सिमी सरगना सफदर नागोरी भी पकड़ा गया था । वो अभी भी जेल में है।

- शिवराज सिंह के मुख्यमंत्री बनने के  बाद एक आईपीएस अफसर ने उन्हें सिमी का पूरा ब्योरा दिया था। उस ब्योरे में प्रदेश में सिमी की मदद करने बालों के नाम भी थे। इनमे कुछ सरकारी अफसर भी थे। इनमे एक विवादित अफसर बाद में  आईएएस का पद भी पा गया।

- शिवराज के मुख्यमंत्री बनने के बाद सिमी सदस्यों ने खंडवा में पुलिस जवान मारे।

-  भोपाल में एक निजी कंपनी का सोना लूटा गया। खंडवा जेल से आतंकी फरार हुए। पर मुख्यमंत्री यही कहते रहे कि हमने सिमी के आतंकी नेट वर्क का सफाया कर दिया। 4 दिन पहले ही उन्होंने यही दावा किया था। शायद सिमी सदस्यों ने भोपाल की सबसे सुरक्षित जेल से भागकर इसी बात का उत्तर दिया है। 

- मुठभेड़ में मारे गए आठ सिमी आतंकियों में से पांच खण्डवा जिले के निवासी है। 

1 अकील पिता युशुफ खिलजी

2 जाकिर पिता  बदरुल हुसैन

3 मेहबूब पिता शेख इस्माइल

4 अमजद पिता सलमान

5 मो सादिक पिता मो हकीम    - खण्डवा जेल से सिमी के 6 आतंकी 30 सितंबर 2013 को फरार हुए थे ।

1. डॉ अबू फैज़ल पिता इमरान (26वर्ष) जुहू,अंधेरी वेस्ट,मुंबई 

2.  एजाजुद्दीन पिता अजीजुद्दीन (28 वर्ष) निवासी करेली जिला नरसिंहपुर 

3. अमजद पिता रमज़ान (22 वर्ष) निवासी खंडवा

4. ,असलम पिता अय्यूब (23 वर्ष) निवासी खंडवा

5. ज़ाकिर पिता बदउल हुसैन(28 वर्ष) निवासी खंडवा

6. महबूब गुड्डू पिता इस्माईल (24 वर्ष) निवासी खंडवा

ये सभी 21 अगस्त 2013 से खंडवा जिला जेल में थे

ये सभी विचाराधीन कैदी थे जिन पर खंडवा में एटीएस जवान सहित दो नागरिकों की दिनदहाड़े हत्या,रतलाम में भी एटीएस जवान की हत्या, देशद्रोह, बैंक डकैती,लूट जैसे संगीन अपराधो के गंभीर आरोप थे। इन पर भारतीय दंड विधान की धारा 302,विधि विरुद्ध क्रियाकलाप निवारण अधिनियम(राष्ट्रद्रोह) की धारा 3,10,13,18,20 , आर्म्स एक्ट के भी आरोप है जो खंडवा सहित प्रदेश की विभिन्न अदालतों में विचाराधीन है।

जिला जेल में सिमी और इंडियन मुजाहिदीन के 9 सदस्य बंदी थे जिनमे से 6 फ़रार हो गए जबकि अन्य प्रकरणों में गिरफ्तार तीन बन्दियों को सेंट्रल जेल इंदौर और भोपाल में स्थानांतरित किया गया है। इनमे सिमी का अकील खिलजी (42वर्ष), अब्दुल रकीब (27वर्ष) तथा अब्दुल्ला उर्फ़ अलताफ (19वर्ष) शामिल है। इन सभी पर धार्मिक उन्माद भड़काने,राष्ट्रद्रोह,विधि विरुद्ध क्रियाकलाप निवारण अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज है।इनमे अकिल खिलजी एक मामले में जहाँ तीन वर्ष की सज़ा कट रहा है तो दुसरे मामलों में वह विचाराधीन (अन्डरट्रायल) है ।