दरिंदा उदयन के निशानदेही पर उसके मां-बाप के शव को निकालेगी पुलिस

भोपाल (5 फरवरी): भोपाल गर्लफ्रेंड हत्याकांड में नित नए-नए खुलासे हो रहे हैं। उदयन दास, फरेब और क्रूरतम हत्याओं का प्रतीक बनता जा रहा है। उसने पुलिस पूछताछ में कबूल किया है कि प्रेमिका आकांक्षा की हत्या से पहले 2010 में वो अपने मां-बाप को भी मारकर गाड़ चुका है। उसने अपने मां-बाप की हत्या छत्तीसगढ़ के रायपुर शहर में किया था।

इस खुलासे के बाद भोपाल पुलिस अब उदयन दास को रायपुर ले गई है। पुलिस यहां उदयन के बताये जगह से उसके मां-बाप की बॉडी को जमीन से निकालेगी।

वहशी हत्यारे ने रायपुर के सुंदरनगर में अपने माता-पिता की 2010 में हत्या की, फिर उसी बंगले के बगीचे में दोनों को दफना भी दिया। पता चला कि दास परिवार 2008 में सुंदरनगर का मकान खरीदकर उसमें शिफ्ट हुआ था। यह आलोक देवांगन का प्लाट था, जिसे इंद्राणी के नाम पर खरीदा गया था। यहां शिफ्ट होने के बाद दास परिवार ने पड़ोसियों से न कभी बात की, न किसी से संबंध रखा। अब तक जो बातें सामने आई हैं, उनके अनुसार माता-पिता की हत्या के बाद उदयन ने 2012 में मां का डेथ सर्टिफिकेट लगाकर यह मकान अपने नाम पर करवा लिया।

इसी समय उसने कोचिंग टीचर सुरेश दुआ को मकान बेचने के लिए कहा और पॉवर ऑफ अटर्नी दे दी। 2013 में यह मकान शांतिनगर के एक वकील ने 31 लाख रुपए में खरीद लिया। मकान खरीदनेवाले वकील ने कहा कि उदयन को तो उन्होंने भी कभी देखा नहीं था।