छात्रों को 'राजनीतिक औजार' की तरह इस्तेमाल कर रहे हैं राहुल : बीजेपी

नई दिल्ली (30 जनवरी) :  बीजेपी ने दलित शोधार्थी रोहित वेमुला की खुदकुशी के मुद्दे को लेकर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर आरोप लगाया कि वे छात्रों का इस्तेमाल 'राजनीतिक औजार' के तौर पर कर रहे हैं। बता दें कि राहुल ने शनिवार को हैदराबाद में विश्वविद्यालय के आंदोलनरत छात्रों के साथ अनशन में हिस्सा लिया।  

वेंकैया नायडू ने क्या कहा?

केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू ने कहा कि यूपीए सरकार के कार्यकाल के दौरान दलित छात्रों के आत्महत्या के नौ मामले सामने आए लेकिन राहुल ने कभी परिसर में जाने की जहमत नहीं उठायी। नायडू ने विपक्ष से आत्महत्या के संबंध में गठित न्यायिक जांच आयोग की रिपोर्ट आने तक इंतजार करने को कहा। नायडू ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘ कांग्रेस घड़ियाली आंसू बहा रही है ताकि राजनीतिक फायदा उठाया जा सके. कांग्रेस और वामदल इसे राजनीतिक मुद्दा बनाने का प्रयास कर रहे है और उनमें विश्वविद्यालय आने की होड़ लग गयी है, वे भूल गए हैं कि यूपीए के शासनकाल में परिसर में ऐसी नौ घटनाएं घटीं. यह देश में मोदी विरोधी अभियान का हिस्सा है।''    क्या कहा श्रीकांत शर्मा ने?

बीजेपी के राष्ट्रीय सचिव श्रीकांत शर्मा ने कहा, ‘‘ ऐसे स्थान पर जहां छात्र पढाई करने जाते हैं, राहुल गांधी माहौल खराब करने का प्रयास कर रहे हैं। यह दर्शाता है कि कांग्रेस पार्टी कितनी हताश हो चुकी है और एक छात्र की मौत पर भी राजनीति कर रही है। इस तरह की विघटनकारी राजनीति जहरीली है और बीजेपी इसकी निंदा करती है।" उन्होंने राहुल गांधी और एआइएमआइएम प्रमुख असादुद्दीन औवैसी पर छात्र रोहित वेमुला की मौत पर राजनीति करने का आरोप लगाया।

संबित पात्रा ने क्या कहा?

बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि उनका अनशन राजनीतिक लाभ अर्जित करने का प्रयास करने का बेहतरीन उदाहरण है। उन्होंने कहा, "हम सभी रोहित वेमुला की आत्महत्या दुखी और परेशान हैं। लेकिन जिस तरह से राहुल गांधी ने असंवेदनशीलता का परिचय दिया है, उसके कारण ही मैं ये बातें कह रहा हूं कि वह और जिम्मेदारी साथ साथ नहीं बढ़ सकते।" पात्रा ने कहा कि कांग्रेस नेता को जज की तरह काम नहीं करना चाहिए क्योंकि मानव संसाधन विकास मंत्री ने पहले ही न्यायिक जांच के आदेश दे दिये हैं और यह मामला अदालत के समक्ष है।