शूटिंग बंद कर लौटे भंसाली, पद्मावती और अलाउद्दीन के सीन पर दी ये सफाई

नई दिल्ली ( 29 जनवरी ): फिल्म 'पद्मावती' में ऐतिहासिक तथ्यों को तोड़मरोड़ कर पेश करने की बात को बेबुनियाद करार देते हुए निर्देशक संजय लीला भंसाली ने बताया कि जिस सीन को लेकर करणी सेना को ऐतराज है वो सीन फिल्म में नहीं है। दरअसल करणी सेना का आरोप है कि भंसाली ने तथ्यों के साथ छेड़छाड़ की है। फिल्म में पद्मावती और अलाउद्दीन खिलजी के बीच प्रेम संबंध दिखाया जा रहा है, जबकि पद्मावती ने खुद को खिलजी से बचाने के लिए हजारों अन्य महिलाओं के साथ जौहर (आग में कूदकर जान दे देना) कर लिया था।

पूरे विवाद पर सफाई देते हुए भंसाली ने कहा कि किसी की भावना को आहत करना उनका इरादा नहीं है। फिल्म में पद्मावती और अलाउद्दीन खिलजी के बीच कोई प्रेम संबंध जैसा सीन नहीं है, फिर किस बात को लेकर विवाद हो रहा है ये उन्हें समझ में नहीं आ रहा है।

उन्होंने कहा कि ऐतिहासिक घटनाओं पर फिल्म बनाने से पहले वो तमाम तथ्यों का बारीकी से अध्ययन करते हैं, फिर आगे का काम शुरू करते हैं। वो सभी धर्मों का सामान आदर करते हैं। किसी की भावना को आहत कर फिल्म बनाने के बारे में उन्होंने कभी नहीं सोचा है। भंसाली ने कहा कि उनकी हमेशा कोशिश रही है कि फिल्म के माध्यम से लोगों तक ऐतिहासिक घटनाओं की जानकारी दी जाए।

वहीं भंसाली ने घटना के एक दिन बाद शनिवार को जयपुर में चल रही फिल्म की शूटिंग रद्द कर दी और कहा है कि वह फिर कभी जयपुर में किसी फिल्म की शूटिंग नहीं करेंगे। फिल्म में मुख्य भूमिकाएं निभा रहे अभिनेता रणवीर सिंह और अभिनेत्री दीपिका पादुकोण ने करणी सेना के आरोपों को मिथ्या करार देते हुए कहा कि भंसाली ऐतिहासिक तथ्यों से तोड़मरोड़ कर ही नहीं सकते।