बीमार 'दाउद' का कराची में पाक आर्मी के बेस्ट डॉक्टर्स कर रहे हैं इलाज

अमित कुमार, नई दिल्ली (23 जून): हिंदुस्तान के दुश्मन नंबर वन की जिंदगी का काउंटडाउन शुरू हो गया है। अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम लंबे समय से बीमार है। खुफिया सूत्रों से न्यूज़ 24 को मिली जानकारी के मुताबिक डॉन पिछले तीन महीने से कराची में ही है और उसका इलाज कर रहे हैं पाकिस्तानी आर्मी के बेस्ट डॉक्टर्स। 

हिंदुस्तान के दुश्मन नंबर वन का अंत करीब आ गया है । अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम लगातार बीमार रह रहा है। जिस डॉन की अंडरवर्ल्ड में धमक चलती है। जिसके नाम से लोग थर्राते हैं। वो अब अपने पैरों से चल भी नहीं पा रहा है। खुफिया सूत्रों से न्यूज़ 24 को मिली जानकारी के मुताबिक, दाऊद पिछले तीन महीने से कराची में है। डॉन अपने घर से भी बाहर नहीं निकल पा रहा है। उसकी तबीयत बहुत खराब है। कराची के जियाउद्दीन अस्पताल के डॉक्टरों की देखरेख में डॉन का इलाज चल रहा है। 

डॉन को अपनी खराब सेहत का अंदाजा पहले ही हो गया था। दाऊद ने कराची के पॉश क्लिफटन में जियाउद्दीन अस्पताल के पास शिरीन जिन्ना कॉलोनी में एक नया मकान खरीदा। दाऊद ने जिन्ना कॉलोनी वाला घर सितंबर 2013 में खरीदा और अब उसी घर डॉन का इलाज चल रहा है।

खुफिया सूत्रों के मुताबिक, डॉन ने बहुत सोच-समझ कर कराची की पॉश जिन्ना कॉलोनी में घर खरीदा। डॉन का नया घर जियाउद्दीन अस्पताल से कुछ मिनटों की दूरी पर है। किसी भी मेडिकल इमरजेंसी में उसे तुरंत अस्पताल पहुंचाया जा सकता है। इतना ही नहीं अस्पताल के डॉक्टर भी किसी वक्त कुछ मिनटों में ही पूरे ताम-झाम के साथ डॉन के घर पहुंच सकते हैं। डॉन के घर से कुछ मिनटों की दूरी पर ही आर्मी कैंटोनमेंट भी है।

कराची के लियाकत मिलिट्री अस्पताल के डॉक्टरों को भी दाऊद के इलाज में लगाया गया है। पाकिस्तानी आर्मी और आईएसआई के अफसर लगातार डॉन के संपर्क में हैं। अब तक ये साफ नहीं हुआ है कि डॉन को आखिर कौन से बीमारी है?  लेकिन, जिस तरह से सितंबर 2013 में दाऊद ने अस्पताल के पास बंगला खरीदा और पाकिस्तानी फौज के जगह-जगह नाके शिरीन जिन्ना कॉलोनी में लग गए। उससे लगता है कि 2013 से डॉन की जिंदगी का काउंटडाउन शुरू हो चुका है। 

कराची में बीमार डॉन की सुरक्षा का जिम्मा पाकिस्तानी फौज और वहां की खुफिया एजेंसी ISI के जिम्मे हैं। डॉन फोर लेयर की सिक्यूरिटी में रह रहा है। दाऊद के आसपास किसी को भी फटकने की इजाजत नहीं है। उसके खास लोग ही भीतरी सुरक्षा के लिए चुने गए हैं। सुरक्षा का दूसरा घेरा ISI के अफसरों ने संभाल रखा है। डॉन के घर की सुरक्षा का जिम्मा पाकिस्तानी फौज के कमांडोज के जिम्मे है। जो जिन्ना कॉलोनी में दाखिल होने वाले हर शख्स पर पैनी नजर रखते हैं। डॉन की सुरक्षा में लगे पाकिस्तानी फौज के कमांडोज की मदद के लिए कराची पुलिस का सुरक्षा चक्र भी है। 

कुछ महीने पहले ख़बर आई थी कि घर में ही एक्सरसाइज करते वक्त दाऊद के पैर में चोट लगी थी, जो गैंगरीन में बदल गयी। दाऊद के करीबियों ने इस खबर को खारिज कर दिया था। लेकिन, डॉन शुगर और हाई ब्लड प्रेशर का भी मरीज बताया जाता है। दाऊद की पाकिस्तान में कई संपत्तियों की जानकारी हिंदुस्तानी खुफिया एजेंसियों को पहले से ही है। भारत सरकार कई बार दाऊद के पते-ठिकाने पाकिस्तान को सौंप चुकी है। लेकिन, पाकिस्तान हमेशा झूठ बोलता आया है कि दाऊद उसकी जमीन पर नहीं है।