समय पर टैक्स रिटर्न फाइल से होंगे यह फायदे...

नई दिल्ली (17 जुलाई): टैक्स रिटर्न फाइल करने की आखिरी तारीख 31 जुलाई है। इसके मद्देनजर टैक्स रिटर्न फाइल करने के लिए आपके पास बहुत कम वक्त बचा है। हालांकि, कानून आपको देर से भी रिटर्न फाइल करने का अनुमति देता है, लेकिन देर करने के अपने नुकसान हैं। इसी तरह, वक्त पर रिटर्न फाइल करने के कुछ फायदे भी हैं।

घाटे को अजस्ट करने का विकल्प: टैक्सपेयर को 8 सालों तक अपने घाटे को भविष्य के पूंजीगत लाभों में अजस्ट करने का विकल्प होता है। लेकिन, इसकी अनुमति तभी मिलती है जब आप वक्त पर अपना टैक्स रिटर्न फाइल करते हैं। अगर आपने रिटर्न फाइल करने में देरी की तो आपको किसी तरह का घाटा आगे अजस्ट करने का मौका नहीं मिलेगा।

फंड में देरी पर ज्यादा इंट्रेस्ट: अगर आपने जरूरत से ज्यादा टैक्स पे कर दिया है तो आप टैक्स रिटर्न फाइल कर इसकी वापसी का दावा ठोक सकते हैं। अगर टैक्स डिपार्टमेंट ने रिफंड करने में देरी की तो आपको रिफंड की राशि पर ब्याज मिलेगा। लेकिन, यह इंट्रेस्ट तभी से जुड़ेगा जिस दिन आपने टैक्स रिटर्न फाइल किया। ऐसे में अगर आपने टैक्स रिटर्न भरने में देरी की तो आपके ब्याज के पैसे कम होंगे और इस तरह खुद ही नुकसान के जिम्मेदार होंगे।

रूफ ऑफ इनकम: टैक्स रिटर्न भरने का एक फायदा यह होता है कि यह आपके प्रूफ ऑफ इनकम के रूप में काम करता है। जब आप किसी बैंक में लोन के लिए अप्लाइ करते हैं तो वह आपसे इनकम प्रूफ के रूप में आपका ताजा रिटर्न मांगता है। इसी तरह वीजा के लिए भी अप्लाइ करते वक्त आपसे इनकम टैक्स रिटर्न्स की मांग होती है ताकि आपकी माली हालत का पता चल सके।

लफड़ों से छुटकारा: अगर आपने टैक्स रिटर्न फाइल करने में देरी की तो आपको टैक्स की राशि पर 1% की दर से इंट्रेस्ट देना होगा। अगर आप टैक्स रिटर्न फाइल नहीं कर सके तो टैक्स डिपार्टमेंट आप पर 5,000 रुपये का जुर्माना लगा सकता है। लेकिन, अगर आपने जानबूझ कर रिटर्न नहीं भरा तो इससे भी ज्यादा जुर्माना लग सकता है और गंभीर मामलों में आप पर मुकदमा भी हो सकता है। ऐसे में वक्त पर टैक्स रिटर्न फाइल करने पर आप इन लफड़ों से बच जाते हैं।