'ट्रंप पर दबाव बनाने के लिए चीन दिखा रहा है अपनी ताकत'

नई दिल्ली (29 दिसंबर):  दुनिया के सबसे ताकतवर देश के निर्वाचित राष्ट्रपति का मनोबल तोड़ने के लिए चीन लगातार अपने नये हथियार दुनिया के सामने ला रहा है। इसी के साथ दक्षिण चीन सागर में एयरक्राफ्ट कैरियर भेजना हो या नए लड़ाकू विमान, चीन की सेना लगातार अपने नए उपकरणों को दुनिया के सामने ऐसे समय रही है जब डॉनल्ड ट्रंप के अमेरिका के राष्ट्रपति के तौर पर पद संभालने में एक महीने से भी कम समय बचा है। ट्रंप की वजह से ही ताइवान और चीन के बीच बीते दिनों तनाव बढ़ा है।

 ऐसे में कई जानकारों का कहना है कि चीन इस क्षेत्र में अपनी धाक बनाए रखने के लिए यह शक्ति प्रदर्शन कर रहा है। चीन के इस वक्त सैन्य शक्ति प्रदर्शन करने के पीछे अमेरिका और ताइवान की करीबी को ही बताया जा रहा है। ताइवान को अपना हिस्सा मानने वाला चीन अमेरिका से उसकी नजदीकी बर्दाश्त नहीं कर पा रहा है। ट्रंप ने साफ कहा था कि अमेरिका को 'वन चाइना पॉलिसी' पर एक बार फिर सोचना चाहिए। हाल के दिनों में चीन ने अपने इकलौते एयरक्राफ्ट कैरियर लियाउनी को प्रशांत महासागर में पहली बार भेजा। वहीं, उसके नए लड़ाकू विमान एफसी-31 ने भी पहली बार उड़ान भरी। चीन ने यह शक्ति का प्रदर्शन डॉनल्ड ट्रंप द्वारा 4 दशक पुरानी यूएस पॉलिसी के खिलाफ जाने के बाद शुरू किया है। ट्रंप ने पॉलिसी के विरुद्ध जाकर ताइवान के राष्ट्रपति से फोन पर बात की थी।