सावधान: ATM का इस्तेमाल करते हैं, तो ये खबर जरूर पढ़ लें...

नई दिल्ली (10 जून): पिछले दस वर्षों में कोई चीज सबसे तेजी से फैली है तो वो है एटीएम। पहले बड़े शहरों में बैंकिंग को आसान करने वाला एटीएम अब छोटे शहरों कस्बों तक में फैल गया है। लेकिन इसके साथ ही इससे जुड़े सुरक्षा के सवाल भी बढ़े हैं। जोधपुर में एटीएम से पैसे निकालने गए एक शख्स के साथ जो हुआ वो आपके हमारे किसी के साथ हो सकता है। ये खबर आपको सावधान करने वाली है। 

जी हां एटीएम से पैसे निकालना जितना आसान है उतना ही मुश्किल होता जा रहा है उस पैसे के साथ सही सलामत बाहर निकल जाना। क्योंकि आएदिन बढ़ती जा रही है एटीएम के अंदर लूटपाट की घटना। सीसीटीवी में कैद राजस्थान के जोधपुर की तस्वीरें इसे साफ करती हैं। पिछले दिनों दलपत सिंह नाम का एक युवक एटीएम से पैसे निकालने गया। एटीएम के अंदर घुसते ही उसके साथ एक और आदमी भीतर चला आया है। जैसे ही एटीएम मशीन ने पैसे उगले दूसरे आदमी ने चाकू से ताबड़तोड़ हमला कर दिया। किसी तरह से दलपत सिंह ने अपनी जान बचाई।

जो जोधपुर के दलपत सिंह के साथ हुआ वो हमारे आपके किसी के साथ हो सकता है। पैसे निकालने की जल्दबाजी में हम देखते ही नहीं कि एटीएम के आसपास कैसे लोग भटक रहे हैं। वो कौन हैं। क्या कर सकते हैं। सोचिए कि क्या आपने कभी इस बात पर गौर किया है।

जोधपुर के दलपत सिंह इस हमले के बाद अस्पताल में भर्ती है। पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के जरिए इस लूटपाट में शामिल दो लोगों को गिरफ्तार किया है। तफ्तीश में पता चला कि बदमाश दिनभर एटीएम से पैसे निकालने वाले लोगों को लूटने के फिराक में थे। उन्होंने पांच एटीएम की रेकी की थी। आखिर में दलपत सिंह के पीछे लग गए। एटीएम में दलपत के साथ ही चुपके से भीतर घुस गए। और उसने जैसे ही छब्बीस हजार रुपए निकाले , चाकुओं से हमला कर दिया।

पूरे देश में एटीएम का जितनी तेजी से जाल फैला है। उसकी सुरक्षा की उतनी ही अनदेखी हो रही है।एटीएम के अंदर लूटपाट की घटनाएं बढ़ी हैं। अगर आप एटीएम से पैसे निकालते हैं तो आपको सावधान रहने की जरुरत है। क्योंकि हमारे संवाददातोंओं ने एटीएम की सुरक्षा की जो पड़ताल की है वो आंखे खोलने वाली है।

गाइडलाइंस की अनदेखी

एटीएम के आसपास सुरक्षा को लेकर आरबीआई के सख्त गाइडलाइंस हैं। लेकिन सवाल है कि वो गाइडलाइंस कितने फॉलो किए जाते हैं। हर एटीएम के बाहर एक सुरक्षा गार्ड का होना जरुरी है लेकिन इस नियम का पालन नहीं होता। आइए आपको दिखाते हैं कि हमारे संवाददाताओं ने जब एटीएम की सुरक्षा को लेकर कई शहरों में लगे एटीएम की पड़ताल की तो उन्हें क्या देखने को मिला। 

एटीएम के अंदर पैसे निकालने एक महिला दाखिल होती है। अभी वो अपने कार्ड को पर्स से बाहर ही निकाल थी, कि एक शख्स तेजी से अंदर आकर एटीएम के शॉप का शटर गिरा देता है। इसके बाद वो बदमाश बेरहमी पर उतरा आता है। अपने थैले से पहले छोटा चाकू निकालता है फिर एक बड़ा चाकू उठा लेता है। महिला मिन्नतें करती रह जाती है लेकिन बदमाश का दिल नहीं पसीजता। पैसे लूटने से पहले चाकू से बुरी तरह से वार कर देता है।

ये तस्वीरें 2013 में बैंगलोर में एक महिला के साथ हुई लूट की घटना से मिली। सीसीटीवी की तस्वीरों को लोगों ने देखा तो उनके दिल दहल गए। एक बहस छिड़ गई कि एटीएम की सुरक्षा में सख्ती के उपाय किए जाएं.। इसके बाद आरबीआई भी सख्त हुई। आऱबीआई ने नए गाइडलाइंस जारी करके हर एटीएम में गार्ड का होना जरुरी कर दिया।

सवाल है कि 3 साल बाद एटीएम के आसपास की तस्वीर कितनी बदली है। इस सवाल के साथ हमारे संवाददातओं ने देश के कुछ चुनिंदा शहरों के एटीएम का जायजा लिया। तस्वीरें चौंकाने वाली मिली।

आरबीआई की गाइडलाइंस के मुताबिक देश के हर कोने में लगे एटीएम में सुरक्षा गार्ड का होना जरुरी है। लेकिन इस जरुरी कदम को कई जगहों पर गैरजरुरी मान लिया गया है। गुजरात के शहर अहमदाबाद में हमारे संवाददाता ने एटीएम मशीनों की सुरक्षा की पड़ताल की तो कई जगह फेल हो गए।

एटीएम ने हमारी जिंदगी इतनी आसान कर दी है कि कई बार आपको याद नहीं रहता होगा कि पिछली बार आप कब बैंक गए थे। इस आसानी ने हमें कुछ लापरवाह भी बना दिया है। जबकी एटीएम के इस्तेमाल में पूरी सावधानी रखनी चाहिए। थोड़ी सी सावधानी से आप अपनी जान और माल दोनों की सुरक्षा कर सकते हैं।

पूरी बैंकिंग व्यवस्था को बदल डाला एटीएम मशीनों ने। जब चाहा पैसा निकाल लिया। पैसे डालने की व्यवस्था भी कर दी। बैंक जाने की जरुरत ही नहीं रही। लेकिन इस बदलाव ने लुटेरों के लूटपाट के तरीके को भी बदल डाला। पहले बैंक लूटते थे अब एटीएम लूटने लगे।

बैंकों ने अपने पैसों के ट्रांजेक्शन बढ़ाने के लिए एटीएम तो लगा दिए। लेकिन उसकी सुरक्षा पर ध्यान देना भूल गई। हाल ही में आरबीआई तक को कहना पड़ा है कि देश का हर तीसरा एटीएम खराब है। आरबीआई ने कहा कि 

RBI सर्वे में हर तीसरा ATM फेल  

बैंक एटीएम मेंटनेंस के मामले में निर्देशों का पालन नहीं कर रहे। आरबीआई इसके खिलाफ सख्त एक्शन लेगी। देश में इस वक्त करीब 2 लाख एटीएम हैं। RBI ने 4 हजार ATM का सर्वे किया था, जिसमें हर तीसरा ATM फेल निकला।

बैंकों ने एटीएम तो लगा दिए लेकिन कहीं गार्ड नहीं है तो कहीं सीसीटीवी कैमरा नहीं लगा। बैंक खर्च के नाम पर सुरक्षा के इंतजामों से समझौता कर रही है। औऱ ये ग्राहकों के लिए भारी पड़ रहा है। 2013 में लूटपाट की घटना के बाद आरबीआई ने सुरक्षा के सख्त नियम कायदे लागू किए थे। इन कायदों के हिसाब से।

ATM में ये होना जरुरी है 

* हर एटीएम में सीसीटीवी कैमरे लगे हों। चौबीसों घंटे की रिकॉर्डिंग 3 महीने तक रखी जाए।

* हर एटीएम में रियर व्यू मिरर लगा हो ताकि ग्राहक जान सके कि पीछे कौन खड़ा है और वो पासवर्ड तो नहीं देख रहा।

* हर एटीएम में एंटी स्कैनिंग डिवाइस लगी हो, ताकि आपके पिन को रिकॉर्ड कर उसका गत इस्तेमाल न हो।

* एटीएम मशीनों में कार्ड डेटा प्रोटेक्शन की व्यवस्था हो, ताकि ग्राहकों के डेटा के ग़लत इस्तेमाल रोका जा सके और डेटा का बचाव किया जा सके।

* ये सारी व्यवस्था जरुरी है लेकिन हर जगह इसका पालन नहीं होता। बाकी सब की छोड़िए गार्ड ही गायब मिलते हैं।

मई 2016 के अपने सर्वे के बाद आऱबीआई ने एटीएम को लेकर और भी सख्त आदेश दे दिए हैं।सभी एटीएम मशीनों को सितंबर 2017 तक एडवांस अपडेट करके उसमें सुरक्षा के एडवांस फीचर शामिल करने हैं। ताकि डेबिट और क्रेडिट कार्डों की स्कैनिंग और क्लोनिंग रोकी जा सके। आरबीआई के गाइडलाइंस का पालन जरुरी है लेकिन जमीन पर  आते आते सारे नियम कायदों में सेंध लग जाती है।