सावधानः ग्रहण के दौरान भूल कर भी न करें ये काम, वरना...!


 नई दिल्ली (20 अगस्त): भारतीय धर्म ग्रन्थों और मान्यताओं के मुताबिक गर्भवती स्त्री को सूर्यग्रहण या चंद्रग्रहण नहीं देखना चाहिए। क्योंकि माना जाता है कि उसके दुष्प्रभाव से गर्भवत शिशु के मानसिक और शारीरिक विकास को प्रभावित कर सकता है। ऐसा माना जाता है कि कुशा की मेखला पहनने या नाभि पर गेरू का लेप करने से ग्रहण के समय दूषित किरणों के प्रभाव से गर्भ की रक्षा होती है।

- यह मान्यता भी है कि सूर्यग्रहण के समय बाल और वस्त्र नहीं निचोड़ने चाहिए और दांत भी नहीं साफ करने चाहिए। 

- ग्रहण के समय ताला खोलना, सोना, मल-मूत्र का त्याग करना और भोजन करना कार्य वर्जित हैं।

- सूर्यग्रहण या चंद्रग्रहण के दौरान किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत को बिल्कुल मना किया जाता है। मान्यता है कि इस दौरान शुरु किया गया काम अच्छा परिणाम नहीं देता है।