BCCI ने पिच क्यूरेटर, मैच रेफरी और अंपायर को किया मालामाल

नई दिल्ली (31 मई): बीसीसीआई की सबा करीम की अध्यक्षता वाली क्रिकेट ऑपरेशन विंग तीन नेशनल सेलेक्टरों की सैलरी बढ़ाने के साथ अंपायरों, स्कोरर और वीडियो विश्लेषकों की फीस दोगुनी करने का फैसला किया। सीओए को भी लगता है कि चीफ सेलेक्टर एमएसके प्रसाद एंड कंपनी को उनकी सेवाओं का फायदा मिलना चाहिए।

दिलचस्प बात है कि बीसीसीआई के कोषाध्यक्ष अनिरुद्ध चौधरी वेतन बढ़ाने के फैसले से अवगत नहीं थे। अभी चेयरमैन को सालाना 80 लाख रुपये, जबकि अन्य सिलेक्टर्स को 60 लाख रुपये मिले रहे हैं। सैलरी बढ़ाने का फैसला इसलिए लिया गया क्योंकि बाहर किए गए चयनकर्ता गगन खोड़ा और जतिन परांजपे भी इतना ही वेतन हासिल कर रहे हैं, जितना देवांग गांधी और सरनदीप सिंह।उम्मीद है अब चीफ सिलेक्टर को करीब एक करोड़ रुपये मिलेंगे, जबकि दो अन्य को 75 से 80 लाख रुपये के करीब मिलेंगे। बीसीसीआई ने छह साल के अंतराल बाद घरेलू मैच रैफरियों, अंपायरों, स्कोरर और विडियो विश्लेषकों की फीस भी दोगुनी करने का फैसला किया। फीस बढ़ाने की सिफारिश सबा करीम ने 12 अप्रैल को सीओए के साथ बैठक के दौरान की थी। हालांकि कोषाध्यक्ष चौधरी को इन वित्तीय फैसलों से दूर रखा गया।