पाकिस्तानी अंपायर असद रऊफ पर 5 साल का बैन

नई दिल्ली(12 फरवरी): पाकिस्तानी अंपायर असद रऊफ को बीसीसीआई ने 5 साल के लिए बैन कर दिया है। वे इस दौरान भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के किसी भी इवेंट का हिस्सा नहीं बन सकेंगे। ये फैसला शुक्रवार को मुंबई में हुई बोर्ड की अनुशासन समिति की बैठक में लिया गया। रऊफ़ को 'गलत आचरण और भ्रष्टाचार' का दोषी पाया गया।

बीसीसीआई की ओर से जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि रऊफ ने एंटी करप्शन कोड 2.2.2, 2.3.2, 2.3.3 और 2.4.1 का उल्लंघन किया है। इसलिए उनपर पांच साल का बैन लगाया गया। 

क्या था रऊफ का जवाब

- रऊफ सुनवाई के लिए नहीं पहुंचे थे, लेकिन उन्होंने अपना जवाब भेजा था। वे जांच प्रक्रिया से संतुष्ट नहीं थे और दोबारा जांच की मांग कर रहे थे।

- रऊफ ने खुद को निर्दोष बताया था और उसके बाद वे कभी भारत दौरे पर नहीं आए।

- उनकी मांग डिसिप्लीनरी कमेटी ने खारिज करते हुए लिखित स्टेटमेंट देने के लिए आखिरी मौका दिया था।

- उन्हें 9 फरवरी, 2016 तक सभी डॉक्यूमेंट्स जमा करने थे।

आईपीएल 2013 के दौरान असद रऊफ का नाम बुकीज़ से महंंगे तोहफे लेने के आरोपों के चलते सुर्खियों मेंं आया था। 

पहले भी रह चुके हैं विवादों में  

यह पहली बार नहीं हुआ है कि पाक अंपायर रऊफ विवादों से घिरे हैं। इससे पहले रऊफ सेक्स स्कैंडल में भी फंस चुके हैं। अगस्त 2012 में मुंबई की एक मॉडल लीना कपूर ने उन पर यौन शोषण का आरोप लगाया था। 

उसने कहा था कि रऊफ ने शादी का झांसा देकर उससे कई बार शारीरिक संबंध बनाए। लीला ने रऊफ से अपनी नजदीकी की हकीकत दुनिया को दिखाने के लिए सोशल साइटों पर अंतरंग तस्वीरें भी डाली थीं।शुरुआत में रऊफ ने लीना को पहचानने से इंकार किया था लेकिन तस्वीरें सामने आने के बाद वे मान गए थे कि दोनों परिचित हैं।

उन्होंने कहा था कि लीना ने टीवी शो बिग बॉस में एंट्री पाने के लिए बॉलीवुड में उनकी जान-पहचान का फायदा उठाने की कोशिश की थी। बाद में मामला दोनों ने आपसी समझ से सुलझा लिया था।

क्रिकेटर से अंपायर बने

असद रऊफ पाकिस्तान में प्रथम श्रेणी क्रिकेटर रह चुके हैं। टेस्ट मैचों में वह 2005 में पहली बार अंतरराष्ट्रीय अंपायर के रूप में मैदान में उतरे।