बवाना आग: फैक्ट्री का मालिक गिरफ्तार, सीएम केजरीवाल ने की 5 लाख मुआवजे की घोषणा

नई दिल्ली ( 21 जनवरी ): शनिवार को दिल्ली के बवाना में तीन फैक्ट्रियों में भीषण आग लग गई। इस हादसे में 17 लोगों की मौत हो गई है। बताया जा रहा कि आग प्लास्टिक के गोदाम से शुरू हुई जो पास ही मौजूद पटाखा फैक्ट्री तक पहुंच गई। हादसे में 13 लोग पहली मंजिल, 3 ग्राउंड फ्लोर और एक की मौत बेसमेंट में हुई है। मरने वालों में 8 महिलाएं हैं। फैक्ट्री मालिक मनोज जैन को गिरफ्तार कर लिया गया है। राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी ने ट्वीट कर इस घटना पर दुख जताया है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस हादसे पर दुख जताया है। मौके पर पहुंचे केजरीवाल को विरोध का सामना करना पड़ा। वहां मौजूद लोगों ने केजरीवाल हाय हाय के नारे लगाए। वहीं केजरीवाल ने मृतकों के परिजनों के लिए 5 लाख रुपये मुआवजे की घोषणा की है। साथ ही गंभीर रूप से घायल लोगों को 1 लाख रुपये देने का ऐलान किया है। उन्होंने इस मामले की जांच के आदेश देते हुए कहा कि राहत के कामों पर हमारी नजर है।

नॉर्थ एमसीडी मेयर प्रीती अग्रवाल मौके पर पहुंची और साथ ही दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी भी मौके पर पहुंचे। एमसीडी मेयर ने भी जांच के आदेश दिए हैं।

नॉर्थ एमसीडी इस पूरे मामले की जांच कराएगी। नॉर्थ एमसीडी की मेयर प्रीति अग्रवाल का कहना है कि जांच के लिए एमसीडी फैक्ट्री लाइसेंसिंग विभाग व अन्य अफसरों की एक टीम बनाने का आदेश कमिश्नर को दिया। टीम में शामिल सदस्यों को दो दिनों में इस मामले की रिपोर्ट देने होगा। इस रिपोर्ट के आधार पर फैक्ट्री मालिक के खिलाफ कार्रवाई होगी। यह भी संभव है कि फैक्ट्री का लाइसेंस भी कैंसल किया जा जाए। 

मेयर के अनुसार फैक्ट्री में मजदूरों की मौत का मामला बेहद ही दर्दनाक है। इस पूरी घटना से बवाना इंडस्ट्रियल एरिया में स्थित जितनी भी फैक्ट्रियां हैं उन पर सवाल खड़े हो गए है। इसलिए इस एरिया में जितनी भी फैक्ट्रियां हैं, उनके बिल्डिंग प्लान की जांच भी कराई जा सकती है। इसके अलावा फैक्ट्री लाइसेंसिंग विभाग को यह आदेश दिया जाएगा कि जिन फैक्ट्रियों को जिस काम के लिए बिल्डिंग प्लान पास किया गया है, उसके अलावा वहां अन्य कोई काम हो रहा है, तो उसे सील किया जाए।