100 रुपये के ऐसे नोटों की वजह से बढ़ सकती है कैश की समस्या

नई दिल्ली ( 6 मई ): कई राज्यों में कैश की किल्लत की खबरे हैं। इस बीच अब 100 रुपये के पुराने, मटमैले नोटों की वजह से कैश की किल्लत और बढ़ सकती है। बैंकर्स का कहना है कि ऐसे 100 रुपए के नोटों की सप्लाई भी कम है जो 200 और 2000 रुपये के नोटों की तरह एटीएम कैसेट में फिट हो सकें, की सप्लाई भी कम है। बैंकर्स ने कहा कि ये समस्या इसलिए आ रही है, क्योंकि 100 रुपये के उपलब्ध अधिकतर नोट मटमैले और एटीएम में डालने लायक नहीं हैं। उनमें से कुछ तो 2005 से भी पुराने हैं।'मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बैंकर्स ने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) से इस समस्या पर तुरंत ध्यान देने का आग्रह किया है। एक पब्लिक सेक्टर बैंक के करंसी मैनेजर ने कहा, 'RBI 100 रुपये के नए नोट तेजी से लाए नहीं तो 500 रुपये के नोटों पर आने वाले दिनों में अत्यधिक दबाव होगा।'नोटबंदी के तुरंत बाद RBI ने 100 रुपये के नोटों की सप्लाई को बड़ी मात्रा में बढ़ाया था। 2016-17 में (नोटबंदी से पहले) 100 रुपये के 550 करोड़ पीस नोट चलन में थे और RBI ने इसे बढ़ाकर 573.8 करोड़ कर दिया।