Blog single photo

अगले हफ्ते चार दिन बंद रहेंगे बैंक, जानें- क्यों ?

अगले हफ्ते के पहले तीन दिनों में आप बैंक से जुड़े कामकाज का निपटा, वर्ना आपकी मुशिकलें बढ़ सकती हैं। क्योंकि अगले हफ्ते देश मे बैंकों में कामकाज ठप्प रहने वाला है। बैंक यूनियन के हड़ताल पर जाने के आहवान के बाद गुरुवार को विवाद सुलझाने के लिए बैंक यूनियनों के साथ

Bank Strike

मनीष कुमार, न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (19 सितंबर): अगले हफ्ते के पहले तीन दिनों में आप बैंक से जुड़े कामकाज का निपटा, वर्ना आपकी मुशिकलें बढ़ सकती हैं। क्योंकि अगले हफ्ते देश मे बैंकों में कामकाज ठप्प रहने वाला है। बैंक यूनियन के हड़ताल पर जाने के आहवान के बाद गुरुवार को विवाद सुलझाने के लिए बैंक यूनियनों के साथ लेबर कमिश्नर और वितीय मामलों के विभाग की बैठक हुई लेकिन ये बैठक बेनतीजा साबित हुआ। जिसके बाद बैंक यूनियनों ने एलान कर दिया कि 26 और 27 सितम्बर को बैंक  कर्मी हड़ताल पर रहेंगे।

Bank Strike

ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स फेडरेशन के महासचिव देवाशीष घोष ने कहा कि " ढाई साल से बैंकरों के वेतन की समीक्षा लंबित है। जिसपर सरकार ध्यान नहीं दे रही। जबकि सारा काम बैंकरों से लिया जा रहा है। " लेबर कमिश्नर के साथ बैठक बेनतीजा रहने के चलते 26 और 27 को बैंकों में देश व्यापी हड़ताल तो होगी ही साथ ही 28 और 29  सितम्बर को शनिवार , रविवार होने से चलते भी बैंक बन्द रहेंगे यानी 4 दिन लगातार बैंक में कोई कामकाज नहीं होगा।  

Bank Strike

बैंकरों की मांग पर नजर डालें तो उनकी मांग है कि ढाई साल से लंबित वेतन की समीक्षा हो। बैंकों के अधिग्रहण विलय का भी बैंकर विरोध कर रहे। हफ्ते में केवल 5 दिन बैंकों में  कामकाज हो। बैंकों में कैश ट्रांजैक्शन का समय घटाया जाए।  जांच एजेंसियों द्वारा बैंक कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई रोका जाए। पेंशन के फॉर्मूला पर फिर से विचार हो। ग्राहकों के लिए सेवा शुल्क में कटौती की जाए। बैंकों में पर्याप्त भर्ती की जाये।  बैंक यूनियनों ने एनपीएस को ख़त्म कर पेंशन पेमेंट प्लान को फिर से लागू करने की मांग के अलावा एनपीए के नाम पर बैंक अधिकारियों का शोषण को खत्म करने की मांग की है। मांगे नहीं माने जाने पर नवम्बर के दूसरे से अनिश्चितकालीन हड़ताल की धमकी दी है।

(Image Credit: Google)

Tags :

NEXT STORY
Top