जब रातों-रात अरबपति बन गया यह किसान...

नई दिल्‍ली (3 जनवरी): कहते हैं ऊपर वाला जब किसी को देता हैं तो छप्‍पर फाड़ कर देता है। ऐसा ही हुआ पलासनेर में एक छोटा सा किसान के साथ भी जो रातों-रात अरबपति बन गया। हालां‍कि इस बात का पता उसे भी तब चला जब उसे आयकर विभाग का नोटिस मिला। इस नोटिस में किसान से जवाब मांगा गया था कि उसके खाते में अरबों-खरबों की राश‍ि आखिर आई कहां से।

जानकारी के अनुसार, किसान घासीराम शिवलाल को आयकर विभाग का नोटिस मिला जिसमें पूछा गया था कि उनके भारतीय स्टेट बैंक खाते में अरबों-खरबों रुपए की राशि कहां से आई। किसान ने नोटिस मिलने के बाद गांव के शिक्षित और प्रबुद्ध ग्रामीण से जब जानकारी चाही तो उन्होंने उसका मतलब बताया। उनकी पासबुक में एक एंट्री 692 खरब 91 अरब 6 करोड़ 94 लाख 42 हजार 629 रुपए अंकित हैं। यह एंट्री मार्च 2015 की 3 और 8 तारीख में दर्ज है, जबकि आयकर विभाग ने नोटिस नवंबर माह में जारी किया था।

मामला बैंक पहुंचा जहां मुख्य शाखा प्रबंधक आरके सरजरे ने इसे साधारण मामला करार दिया। उन्होंने बताया कि घासीराम को आयकर विभाग से जो नोटिस मिला है उसमें बड़ी राशि का जिक्र नहीं है। शाखा प्रबंधक ने कहा कि यह तकनीकी कारण से हुई गलती है, इसमें घबराने की जरूरत नहीं है। आयकर विभाग को किसान अपना स्पष्टीकरण दे सकते हैं। बैंक से भी अगर आयकर विभाग जानकारी मांगेगा तो बैंक जानकारी दे देगा।