आज से बैंककर्मियों की दो दिनों की हड़ताल, आपको हो सकती है परेशानी

Image credit: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (8 जनवरी): केंद्रीय ट्रेड यूनियन ने केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ आज से दो दिनों के हड़ताल का ऐलान किया है। केंद्रीय ट्रेड यूनियन की इस प्रस्ताबित हड़ताल से बैंकिंग सेवाओं को लेकर लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया को छोड़कर सभी बैंकों के कर्मचारी यूनियन इस हड़ताल में शामिल हैं। हालांकि हड़ताल के दौरान प्राइवेट बैंकों में काम काज जारी रहेगा।

बैंक कर्मियों के संगठन केंद्र सरकार की नीतियों को श्रमिक विरोधी करार दे रहे हैं। बैंकों के कर्मचारी यूनियन बैंक ऑफ बड़ौदा में विजया बैंक और देना बैंक के विलय समेत कई मुद्दों को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रही हैं। इस हड़ताल से एटीएम सर्विस भी प्रभावित हो सकती है। इससे पहले सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के अधिकारियों की यूनियन ने इन्हीं मांगों और वेतन को लेकर चल रही बातचीत जल्द पूरी करने की मांग को लेकर हड़ताल की थी। अब केंद्रीय ट्रेड यूनियनों ने पूरे देश में हड़ताल का ऐलान किया है।

वहीं हड़ताल को लेकर ऑल इंडिया किसान महासभा के महासचिव ने बताया कि देश भर के ट्रेड यूनियनों ने हड़ताल का आह्वान किया है। इस हड़ताल में भारत बंद  और रेल रोको आंदोलन भी शामिल हैं। यूनियन को भरोसा है कि हड़ताल को किसानों और आम आदमी का भारी समर्थन हासिल होगा। इस हड़ताल से से बैंकिंग, रेलवे, पोस्टल, मेडिकल और अन्य सर्विसेज पर असर पड़ सकता है। ट्रेड यूनियंस ने केंद्र सरकार की नीतियों को राष्ट्र और श्रमिक विरोधी बताया है। AITUC की जनरल सेक्रेटरी अमरजीत कौर ने बताया, 'सेंट्रल ट्रेड यूनियंस को सरकार की जन विरोधी नीतियों के खिलाफ हड़ताल में संगठित और असंगठित क्षेत्र से लगभग 20 करोड़ वर्कर्स के शामिल होने का अनुमान है।' INTUC, AITUC, HMS, CITU, AIUTUC, TUCC, SEWA, AICCTU, LPF और UTUC जैसी बड़ी ट्रेड यूनियंस ने इस हड़ताल का आह्वान किया है। हालांकि, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ी ट्रेड यूनियन भारतीय मजदूर संघ हड़ताल में शामिल नहीं होगी।