बैंकों में 2 से 5 लाख रूपये जमा करवाने वाले भी नहीं बचेंगे, सरकार के पास है पूरा डाटा

नई दिल्ली (29 दिसंबर): नोटबंदी के बाद भारी तादाद में लोगों ने अपने-अपने खातों में 500 और 1000 के पुराने नोटों को जमा करवाए। इस दौरान काले धन के कुबेरों ने आम लोगों को चंद रूपयों का लालच देकर अपनी काली कमाई को ब्लैक से व्हाइट भी कर लिया। अब ऐसे लोगों पर सरकार की नजर टेढ़ी होती जा रहा है। सरकार ने साफ किया है कि जिन लोगों के खाते में उनकी आय के अधिक रूपये जमा हुए हैं वैसे लोगों पर अब कार्रवाई की जाएगी।

 

सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक 2 लाख से 5 लाख रूपये खाते में जमा करवाने वाले लोगों पर भी सरकार कार्रवाई करने की तैयारी में है। बताया जा रहा है कि सरकार के देशभर के बैंकों ऐसे लोगों के आंकड़े आने शुरू हो गए हैं और सरकार जांच एजेंसियों के सहयोग से ऐसे लोगों पर कार्रवाई करने की तैयारी में जुटी है।

एक आंकड़े के मुताबिक नोटबंदी के बाद से महज 60 लाख लोगों ने तकरीबन 7 लाख करोड़ रुपए बैंक खातों में जमा करवाए हैं। नोटबंदी के बाद बैंकों में जमा कराए गए पैसों को लेकर सरकार का कहना है कि किसी ईमानदार को तंग नहीं बनाएगी, लेकिन कालेधन को सफेद बनाने की कोशिश करने वाले को किसी भी सूरत में नहीं बख्शा जाएगा।

सरकार ने ऐसे कालेधन के कुबरों को एकबार फिर आगाह किया है कि उन्हें बताना होगा कि यह धन कहां से आया, क्योंकि केवल बैंक में जमा करवा देने से ही कालधन वैध नहीं हो जाएगा। गौरतलब है कि सरकार ने 8 नवंबर को नोटबंदी की घोषणा की और 1000 व 500 रुपए के मौजूदा नोटों को चलन से बाहर कर दिया।