आतंक से जंग : बांग्लादेश ने स्कूल-कॉलेजों से 10 दिन से एब्सेंट छात्रों की सूची मांगी

नई दिल्ली (10 जुलाई): बांग्लादेश सरकार ने सभी शैक्षणिक संस्थानों को आदेश जारी कर उन स्टूडेंट्स की जानकारी देने के लिए कहा है, जो लगातार 10 दिनों से अनुपस्थित हैं। ऐसा उन रिपोर्ट्स के आने के बाद कहा गया है, जिन आतंकियों न हालिया हमलों को अंजाम दिया, वे घर से भागकर आतंकी समूह में शामिल हो गए थे। 

रिपोर्ट के मुताबिक, सचिवालय में एजुकेशन मिनिस्ट्री के अधिकारियों की एक मीटिंग के बाद स्टूडेंट्स की लिस्ट की मांग करने का फैसला किया गया। इस मीटिंग की अध्यक्षता मंत्री नुरुल इस्लाम नाहिद ने की। मंत्रालय ने बाद में इस संबंध में एक आदेश जारी किया। जिसमें कहा गया कि संस्थानों को अनुपस्थित छात्रों की एक सूची बनानी होगी। इस सूची को उपजिला एजुकेशन अधिकारियों को सौंपना होगा। 

रिपोर्ट के मुताबिक, जिन पांच आतंकियों ने गुलशन कैफे में एक जुलाई को हमला कर 22 लोगों को मौत के घाट उतार दिया, जिनमें एक भारतीय छात्रा भी शामिल थी। उनकी तस्वीरें आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) ने जारी की थीं। इन आतंकियों के रिश्तेदारों ने बताया कि ये कई महीनों से लापता थे। इसके अलावा अपने परिवारों से भी संपर्क में नहीं थे। 

बीते गुरुवार को ईद की नमाज के मौके पर हुए हमले का संदिग्ध आतंकी भी मार्च से लापता था। जिसे एक मुठभेड़ में मार गिराया गया। पुलिस ने इसकी जानकारी दी है। इन छह युवकों में से ढ़ाका के चार टॉप इंग्लिश मीडियम स्कूल्स में पढ़ाई कर रहे थे। इनमें से दो प्राइवेट नॉर्थसाउथ यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स थे। इसके अलावा एक अन्य ब्रैक यूनिवर्सिटी में पढ़ता था। सुरक्षाबलों ने भी पेरेंट्स को उनके लापता बच्चों के बारे मे जानकारी देने के लिए अलर्ट किया है।